भागलपुर [जेएनएन]। चकफतमा गांव के बगीचे में मु. अफसार अंसारी की पीट-पीटकर हत्या मामले में जगदीशपुर पुलिस ने चार मुख्य आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। इसमें मनोहरचक निवासी मोहन राय, कार्तिक राय, पप्पू राय और चकफतमा गांव निवासी कुंदन कुमार शामिल है। चारों को जेल भेज दिया गया है। घटना में शामिल अन्य आरोपितों की पहचान कर उनकी गिरफ्तारी के लिए छापेमारी जारी है। एसएसपी आशीष भारती ने कहा कि इस मामले में सिटी एसपी से पूरी रिपोर्ट मांगी गई है। घटना की हर बिंदु पर जांच होगी। जो भी दोषी पाए जाएंगे, उन्हें किसी कीमत पर नहीं बख्शा जाएगा।

गिरफ्तारी के लिए विशेष टीम का हुआ है गठन

एसएसपी ने बताया कि अफसार की हत्या के मामले में सिटी एसपी सुशांत कुमार सरोज के नेतृत्व में विशेष टीम गठित की गई है। इसमें लॉ एंड आर्डर डीएसपी निसार अहमद शाह, जगदीशपुर थानेदार संजय सत्यार्थी, गोराडीह थानेदार मु. दिलशाद, लोदीपुर थानेदार कौशल भारती, बबरगंज इंचार्ज पवन कुमार सिंह समेत अन्य शामिल हैं।

पोस्टमार्टम के बाद शव आते ही गांव में पसरा मातम

मु. अफसार के शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद पुलिस ने परिजनों को सौंप दिया। परिजन जब शव लेकर गांव पहुंचे तो वहां मातम पसर गया। काफी संख्या में लोग गांव पहुंचे थे। उनमें काफी आक्रोश था। वे दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग कर रहे थे।

मां रोते हुए हो रही थी बदहवास

अफसार की हत्या के बाद उसकी मां बीबी इमराना समेत अन्य परिजन बदहवास थे। पोस्टमार्टम हाउस में इमराना बार-बार अपने बेटे को याद कर फफक पड़ती थीं। उन्होंने बताया कि अफसार घर में एकलौता कमाने वाला था। उनलोगों ने सोचा भी नहीं था कि इस तरह हत्या कर दी जाएगी।

मां का आरोप बच्चा चोर कह कर पीटते हुए कर दी हत्या

बेटे की हत्या के मामले में बीबी इमराना ने पांच लोगों के विरुद्ध नामजद और कई अज्ञात पर जगदीशपुर थाने में केस दर्ज कराया है। उनका कहना है कि अपने बेटे मु. अफसार के साथ भागलपुर से अपने घर मीरनचक जा रहे थी। इसी बीच घटनास्थल के समीप आरोपितों ने बच्चा चोरी की अफवाह उड़ाकर बेटे को पकड़ लिया। उन लोगों ने उसे लाठी-डंडे से पीटना शुरू कर दिया। जब तक वह कुछ कर पाती, उसके बेटे की सांसें थम गई थी।

ग्रामीणों ने कहा, अफसार ने किया था हमला

पुलिस जब जांच के लिए चकफतमा गांव पहुंची तो ग्रामीणों ने मृतक मु. अफसार पर ही आरोप लगाया। उनका कहना है कि मामूली विवाद में अफसार ने धारदार हथियार निकाल लिया और एक ग्रामीण पर चला दिया। इस लेकर अन्य ग्रामीण आक्रोशित हो गए। इसी में घटना घटी है। बच्चा चोरी की अफवाह उड़ाकर मारपीट की घटना से ग्रामीणों ने इन्कार किया है। हालांकि इस मामले में पुलिस का कहना था कि यदि अफसार ने किसी को घायल किया तो लोगों को उसे लेकर पुलिस के पास आना चाहिए था, न कि खुद ही फैसला कर लेना था।

Posted By: Dilip Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप