[राम प्रकाश गुप्ता] भागलपुर भागलपुर जिले के पंचायत सरकार भवनों के दिन बहुरने वाले हैं। वर्ष 2011-12 से जिले में पंचायत सरकार भवन का निर्माण हो रहा था। कलस्टर में होने वाले निर्माण के लिए 41 भवनों का लक्ष्य रखा गया था। जिसमें से 26 के पूर्ण होने का प्रमाण देने के बाद पंचायती राज विभाग ने 13 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं। उपस्कर आदि की खरीद के लिए प्रति पंचायत सरकार भवन पांच लाख रुपये का आवंटन दिया गया है। 26 का निर्माण पूरा हो गया है जिसमें से 24 को पंचायती राज विभाग को हैंडओवर कर दिया गया है। अब तक बिना उपस्कर का भवन क्रियाशील नहीं था। निश्चय यात्रा में मुख्यमंत्री ने इन कठिनाइयों को समझा था। सीएम के आगमन पर सभी बीडीओ को निर्देश दिया गया था कि वहां पंचायत प्रतिनिधियों के बैठने की व्यवस्था सुनिश्चित किया जाए। लेकिन कोई सुविधा नहीं रहने के कारण न तो मुखिया बैठे न ही सरपंच ने कोर्ट लगाया।

उपस्कर में क्या-क्या खरीद होगी

टेबुल, कुर्सी, आलमीरा, पंखा, माइक सेट, एलइडी बल्ब, लेखन सामग्री, दरी सहित अन्य आकस्मिक सामग्री।

एक भवन में बैठेंगे छह मुखिया

सरकार ने कलस्टर में पंचायत सरकार भवन का निर्माण कराया है। जिले के 242 पंचायतों में 41 भवन का निर्माण कराया गया। औसतन एक भवन में छह मुखिया व सरपंच को बैठकर काम करना है। इसे मिनी सचिवालय के नाम की संज्ञा दी गई है।

कहां-कहां तैयार हैं भवन

खरीक के चोरहर। नवगछिया के नगरह व तेतरी। रंगरा चौक प्रखंड के रंगरा व मुरली। पीरपैंती के बंधुजयराम, बाखरपुर पूर्वी, श्रीमतपुर गोपालीचक, मानिकपुर, राजगांव। सन्हौला के महेशपुर घनश्यामचक, सन्हौला। गोराडीह के कासिमपुर व गोराडीह। सबौर के ममलखा, जगदीशपुर के बलुआचक पुरैनी। शाहकुंड के दीनदयालपुर, पैरडोमनियामाल व भूलनी। सुल्तानगंज के धांधी बेलारी, खैरेहिया, मिरहट्टी। कहलगांव के भोलसर व बिहपुर के मड़वा।

पंचायत सरकार भवनों में होंगे काम

अब गांव के लोगों को पंचायत सचिव या राजस्व कर्मचारी को ढूंढ़ना नहीं पड़ेगा। इस भवन में कार्यालय भी चलेगा। इसी भवन में सरपंच भी अपना कोर्ट लगाएंगे। जब इस योजना का निर्माण शुरू हुआ था तो मॉडल लागत 60 लाख थी। विलंब होने के कारण इसकी निर्माण लागत अब एक करोड़ तक पहुंच गई है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस