भागलपुर [जेएनएन]। अब एसी क्लास में भी सफर करना सुरक्षित नहीं रहा। विक्रमशिला एक्सप्रेस की एसी क्लास में लगातार लगेज, बेग और सामानों की चोरी होने के बाद इससे सफर करने वाले यात्री काफी डरे सहमे हैं। पटना रेल जिला क्षेत्र के मोकामा-हाथीदह के बीच भागलपुर की ट्रेन को टारगेट किया जा रहा है। वहीं, शिकायत के बाद भी रेल पुलिस और आरपीएफ एक्शन लेने की बजाय मूकदर्शक बनी हुई है। पहले जहां जनरल और स्लीपर क्लास में सामान चोरी की घटनाएं ज्यादा होती थी। एसी कोच सबसे सुरक्षित माना जाता था। पर, एसी इन कोचों में बढ़ रही चोरी की घटनाओं के कारण ट्रेनों में यात्री सुरक्षा पर सवालियां निशान लग गया है। 28 दिनों के अंदर विक्रमशिला के एसी कोच में चोरी की तीन बड़ी घटनाएं हुई है।

एसी में सफर करने वालों के पास होता है कीमती सामान

एसी कोच में घटना को अंजाम देने वाले बदमाशों को पता है कि एसी कोच में सफर करने वालों के पास अक्सर कीमती सामान होता है। इस वजह से ये लोग एसी कोच को ही टारगेट करते हैं। 19 जून को आनंद विहार टर्मिनल से भागलपुर आ रही विक्रमशिला एक्सप्रेस के सेकंड एसी कोच में आधा दर्जन यात्रियों के सामान उड़ा लिया था। महज पांच दिन बाद 25 तारीख को एक बार फिर बी-वन और बी-टू में यात्रियों का सामान लेकर उतर गए।

मोकामा-हाथीदह के बीच हो रही घटनाएं

मोकामा से हाथीदह की दूरी आठ से 10 मिनट में तय होती है। इस दौरान बदमाश एसी कोच में चोरी की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। अबतक के पीडि़त यात्रियों ने बताया कि मोकामा में आठ से दस की संख्या में युवक एसी कोच में चढ़ते हैं और सामानों को लेकर हाथीदह में उतर जाते हैं।

जागकर सामानों की सुरक्षा करने को मजबूर पैसेंजर

एसी कोच में आरक्षण कराने के पीछे यात्रियों की मंशा रहती है कि आराम से सफर पूरा हो सके। इधर, लगातार हो रही चोरी की घटना के बाद यात्री जागकर सुरक्षा करने को पैसेंजर मजबूर हैं। पटना से भागलपुर की दूरी तय करने में विक्रमशिला एक्सप्रेस को पांच से साढ़े पांच घंटे लगता है। ऐसे में यात्री बर्थ पर सोने की जगह जाग कर सामानों को सुरक्षित करने में लगे रहते हैं।

घटना पर एक नजर

-29 मई को हाथीदह-बड़हिया के बीच एसी कोच में चोरी

-19 जून को मोकामा-हाथीदह के बीच सेकंड एसी कोच में कई यात्रियों का सामान उड़ाया

-25 जून को मोकामा-हाथीदह के बीच वी-वन और टू कोच में चोरी

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dilip Shukla