भागलपुर [जेएनएन]। भागलपुर जिला के नाथनगर विधानसभा उपचुनाव को लेकर चौथे दिन भी दोपहर तक एक भी नामांकन नहीं हुआ, केवल पां नामांकन फॉर्म की बिक्री हुई। फॉर्म खरीदने वालों में सबौर प्रमुख अभय कुमार, वार्ड नंबर एक लालूचक के दयाराम मंडल, ममलखा के अजय कुमार मंडल, चौकी नियामतपुर के मनोहर मंडल हैं। नामांकन को लेकर तीसरे दिन भी सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। नामांकन पत्र भरने की अंतिम तिथि 30 अक्टूबर तक है।

जयशंकर सिंह सहायक व्यय प्रेक्षक बनाए गए

नाथनगर विधानसभा उपचुनाव को लेकर राज्य कर संयुक्त आयुक्त जयशंकर सिंह को सहायक व्यय प्रेक्षक बनाया गया है। सहायक व्यय प्रेक्षकों के सहयोग के लिए कई और टीम का गठन किया गया है। वीडियो निगरानी टीम के प्रमुख राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना के कार्यक्रम प्रबंधक शशि रंजन सहाय बनाए गए हैं। इनके सहयोग में कृषि समन्वयक नर्मदेश्वर प्रसाद सिंह, राजीव कुमार चौधरी रहेंगे। वीडियो अवलोकन टीम के प्रमुख जिला विकास शाखा के कनीय अभियंता ब्रेडा मो. शहनवाज और प्रशांत कुमार चौधरी बनाए गए हैं। लेखा टीम के प्रमुख राज्य कर सहायक आयुक्त योगेंद्र शर्मा और इनके सहयोग में राज्य कर डीईओ ऑडिट अरविंद कुमार झा, जिला भविष्य निधि कार्यालय के लिपिक अनिमेष वर्मा बनाए गए हैं। स्थैतिक निगरानी दल के प्रमुख श्रम प्रवर्तन पदाधिकारी नाथनगर संतोष कुमार झा, प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी शाहकुंड लोकेश कुमार ठाकुर, आपूर्ति निरीक्षक अमरेश कुमार ठाकुर, जिला वित्त पदाधिकारी आशीष कुमार, कार्यालय अधीक्षक अनिल कुमार बनाए गए हैं। उडऩदस्ता दंडाधिकारी खनिज विकास पदाधिकारी प्रणव कुमार प्रभाकर, जगदीशपुर सीओ सोनू कुमार भगत, सहकारिता प्रसार पदाधिकारी सदानंद सिंह, राष्ट्रीय बाल श्रमिक परियोजना प्रबंधक शशि रंजन सहाय और जिला पंचायती राज कार्यालय के तकनीकी सहायक मो. अब्दुल माजीद बनाए गए हैं।

मतदान कर्मियों जिला स्कूल और राजकीय बालिका उच्च विद्यालय में एक, तीन, 11 और 12 अक्टूबर को दिया जाएगा। प्रशिक्षण कार्य दस बजे से दो बजे के बीच होगा। 19 अक्टूबर को योगदान स्थल पर भी प्रशिक्षण दिया जाएगा। वहीं मतगणना कर्मियों को डीआरडीए सभागार में 18 व 23 अक्टूबर को प्रशिक्षण मिलेगा।

28 लाख तक खर्च कर सकेंगे उम्मीदवार

नाथनगर विधानसभा उपचुनाव लडऩे वाले प्रत्याशी 28 लाख रुपये तक खर्च कर सकेंगे। चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों के खर्च करने की सीमा 28 लाख रुपये निर्धारित किया है। इधर, मतदान कर्तव्‍य में भाग लेने वाले कर्मी को चार अक्टूबर तक आवेदन करने के लिए कहा गया है। 31 सौ कर्मी मतदान कार्य में हिस्सा लेंगे।

नामांकन का चौथा दिन भी पूरी तरह खाली

बांका जिला के बेलहर विधानसभा उप चुनाव के नामांकन चौथा दिन भी दोपहर बाद पूरी तरह खाली रहा। कोई प्रत्याशी नामांकन दाखिल करने की कौन पूछे एनआर कटाने भी चुनाव कार्यालय नहीं आ रहे हैं। नामांकन के लिए तैनात कर्मियों को भी दिन बैठ कर इंतजार करना पड़ा। अब गुरुवार को भी किसी नामांकन की उम्मीद नहीं है।

जानकार बताते हैं कि अब शुक्रवार को ही एनआर कटने और अंतिम दिन सोमवार को सभी का नामांकन होगा। शनिवार और रविवार को नामांकन का काम बंद रहेगा। दोनों दलीय प्रत्याशी का नामांकन भी इसी दिन निर्धारित है। दलीय प्रत्याशी को केवल एक तथा निर्दलीय को 10-10 प्रस्ताव की जरूरत होगी। वैसे नामांकन को लेकर प्रत्याशी की सुस्ती बता रहा है कि इस चुनाव में आधा दर्जन प्रत्याशी का भी मैदान में उतरना मुश्किल है। केवल दस महीने के लिए कोई प्रत्याशी चुनाव में मोटी पूंजी लगाने से घबरा रहा है। नामांकन को लेकर समाहरणालय आसपास की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

पूर्व विधायक 30 को करेंगे नामांकन

पूर्व विधायक सह राजद प्रत्याशी रामदेव यादव 30 सितंबर को अपना नामांकन दाखिल करेंगे। इसकी जानकारी देते हुए पूर्व विधायक ने बताया कि पार्टी का टिकट मिलने से क्षेत्र की जनता खुश है। नामांकन प्रक्रिया पूरी करने के लिए सभी जरूरी कागजात तैयार किए जा रहे हैं। नामांकन में कई दिग्गज नेता, कार्यकर्ता, समर्थक सहित आम जनता शामिल होंगे। वे लालू यादव के विचारों को आगे बढ़ाने का काम करेंगे।

चार दिन में कटी दो एनआर एक भी नहीं हुआ नामांकन

किशनगंज विधानसभा उपचुनाव 21 अक्टूबर को होना है। चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशियों के लिए नामांकन करने की तिथि 23 सितंबर से शुरू हो चुकी है, लेकिन नामांकन तिथि जारी होने के चौथे दिन दोपहर तक केवल दो एनआर कटे हैं। हालांकि अब तक एक भी प्रत्याशियों द्वारा नामांकन नही किया गया है। यह जानकारी बुधवार को एसडीएम सह चुनाव अधिकारी शहनवाज अहमद नियाजी ने दी।

उन्होंने बताया कि विधानसभा उप चुनाव के मद्देनजर जिला अंतर्गत सभी कार्यालय, विद्यालय और विभागों में पदस्थापित पदाधिकारियों, अभियंताओ, पर्यवेक्षकों, पर्यवेक्षिकाओं, कर्मियों, शिक्षक और शिक्षिकाओं के सभी प्रकार के अवकाश (राजपत्रित व सामान्य अवकाश) निर्वाचन कार्य समाप्ति तक रद कर दिए गए हैं। साथ ही जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम के निर्देशानुसार सभी पदाधिकारी और कर्मी को अपने मुख्यालय में उपस्थित रहेंगे। यदि किसी पदाधिकारी का अवकाश स्वीकृत हुआ हो तो भी वे भी अपने अवकाश को रद समङों। सभी पदाधिकारी अपने कार्यालय के कर्मियों सहित संबंधित कर्मियों को भी इसकी सूचना दे। कर्मियों के अवकाश में रहने की स्थित में चुनाव कार्य में कोई भी बाधा उत्पन्न होती है तो इसकी सारी जिम्मेदारी संबंधित कार्यालय के पदाधिकारियों की होगी। विशेष परिस्थिति में किसी पदाधिकारी और कर्मियों को जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह डीएम के निर्देश के बाद ही अवकाश मिल सकता है।

उन्होंने कहा कि किसी भी दल के प्रत्याशी या निर्दलीय प्रत्याशी को किसी भी प्रस्तावित सभा के स्थान और समय की जानकारी जिला प्रशासन का देना जरूरी है। जिससे कि सभा स्थल के निकट यातायात को नियंत्रित करने और शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए आवश्यक इंतजाम किए जा सके। किसी भी प्रस्तावित सभा स्थल के लिए लाउडस्पीकर के उपयोग सहित किसी अन्य सुविधाओं के लिए संबंधित प्राधिकार में आवेदन देकर अनुज्ञप्ति प्राप्त करना जरूरी है। सभा के आयोजकों के लिए जरूरी है कि सभा में विघ्न डालने वाले या अन्यथा अव्यवस्था फैलाने वाले व्यक्तियों से निपटने के लिए डयूटी पर तैनात पुलिय कर्मी की सहायता लें। आयोजकों को हर संभव कोशिश करनी चाहिए कि वे स्वयं ऐसे व्यक्तियों के विरूद्ध कोई कार्रवाई नहीं करें।

 

Posted By: Dilip Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप