कटिहार, जेएनएन। कोढ़ा प्रखंड क्षेत्र के हरियाभीर विशनपुर निवासी काजल कुमारी शिक्षा की ज्योत जला रही है। पारिवारिक मजबूरी और आर्थिक तंगी के कारण परिवारिक दबाव के कारण काजल पर मजदूरी के लिए दबाव बनाया जा रहा था, लेकिन पढऩे की ललक के कारण काजल इसका विरोध करती थी। उन्होंने अपने परिजनों से पढऩे की इच्छा जाहिर की। परिवार में चार बच्चों की जिम्मेदारी के कारण अभिभावक पढ़ाई का खर्च वहन करने में असमर्थता व्यक्त करते थे। इसके कारण उनकी पढ़ाई बीच में ही छूट गई थी। लेकिन पढऩे की इच्छा और आगे बढऩे के जज्बा के कारण वह इससे निकलना चाहती थी।

इसी बीच उनका संपर्क भूमिका विहार संस्था से हुआ और संस्था की पहल पर उन्हें स्कूली शिक्षा से जोड़ा गया। इसके बाद उनका कारवां चल पड़ा। संस्था के किशोरी समूह से जुड़कर वे समाज में शिक्षा की पहल को लेकर सराहनीय पहल कर रही है। उसके पहल से कई बच्चों ने स्कूल जाना प्रारंभ किया है। उनके प्रयास से कई छात्राएं आज स्कूल पहुंच रही है। वे आसपास की बच्चियों को विद्यालय से जोडऩे का सतत प्रयास कर रही हैं।

शिक्षित समाज के साथ हर नारी को शिक्षित करना है मकसद  

खुद पढ़ाई की शुरूआत करने के बाद उन्होंने संस्था से जुड़कर इसके खिलाफ मुहिम की शुरूआत की। आज वह अपने क्षेत्र की बच्चियों को शिक्षा के प्रति जागरूक कर रही हैं। इसके साथ ही बाल विवाह और बाल मजदूरी जैसी सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ अभियान चला रही हैं। वह किशोरी समूह की सदस्य भी हैं और इसके माध्यम से वह बच्चियों को विद्यालय भेजने के लिए लोगों और बच्चियों को प्रोत्साहित करती हैं। उनके साथ आज कई बच्चियां स्कूल से जुड़कर शिक्षा ग्रहण कर रही हैं। उन्होंने कहा कि वंचित समाज के लिए शिक्षा बड़ा हथियार है। इससे ही समाज की उन्नति और विकास संभव है।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस