पूर्णिया, जेएनएन।  बिहार के पूर्णिया में गैंस सिलेंडर में ब्लास्ट होने से एक परिवार के आधा दर्जन लोगों की मौत हो गई। हादसे में कई और लोग झुलस गए। एक गंभीर रूप से जख्‍मी को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मृतकों में ज्‍यादातर बच्‍चे शामिल हैं। मौके पर पुलिस और प्रशासन के कई अधिकारी पहुंचे हैं। घटना पूर्णिया जिले के बायसी के खपड़ा पंचायत के ग्वालगांव के वार्ड संख्या सात में हुई है।

इलाज के दौरान तोड़ा दम

मृतकों में गृह स्वामी बीरेंद्र यादव की एक पोती, दो पोता, एक नाती, एक नतिनी और पुत्री शामिल हैं। दो पोती रूचि कुमारी (5), पोता गगन कुमार (7), सजन कुमार (3), नाती प्रियांशु (4), नतिनी प्रीति कुमारी (3), बीरेंद्र यादव की पुत्री बॉबी देवी (25) शामिल हैं। वहीं पिंटू यादव (22) बुरी तरह झुलस गया। बायसी पुलिस ने सभी मृतकों का पोस्टमार्टम कराया है।

सिलेंडर से रिस रही थी गैस, लग गई आग

बीरेंद्र यादव की पुत्री बॉबी देवी अपने पति अखिलेश यादव और पुत्र प्रियांशु व पुत्री प्रीति कुमारी के साथ अपने मायके आई थी। सोमवार की रात वे लोग घर में बैठकर बातें कर रही थीं। उस वक्त घर में बॉबी के अलावा उनके दो पुत्र व पुत्री, भाई विक्टर के दो पुत्र गगन और सजन और उसकी भाभी तथा छोटे भाई पिंटू थे। सभी बैठकर बातचीत कर रहे थे तभी पिंटू ने अपनी भाभी को खाना बनाने के लिए कहा। वह भोजन का सामान जुटाने लगी तथा अपनी ननद बॉबी को चुल्हा जलाने कही। वह उठकर गैस चूल्हा जलाने चली गई। चूल्हे से गैस का रिसाव पहले से हो रहा था, जिस पर किसी का ध्यान नहीं गया। बॉबी ने जैसे ही माचिस की तीली जलाई कि आग पूरे सिलेंडर में फैल गई। वह आग बुझाने का प्रयास करने लगी, तभी विस्फोट हो गया। आग की चपेट में पूरा परिवार आ गया और सभी बुरी तरह झुलस गए। जब तक ग्रामीण जमा होते और सभी को बाहर निकालते सभी बुरी तरह जल गए थे। ग्रामीणों एवं स्वजन ने सभी को तत्काल बायसी पीएचसी पहुंचाया लेकिन वहां चिकित्सक ने बेहतर व्यवस्था नहीं होने का हवाला देकर उन्हें सदर अस्पताल भेज दिया। सदर अस्पताल में वे लोग कुछ देर ठहरे लेकिन बेहतर इलाज होता नहीं देख वे लोग प्राइवेट अस्पताल की ओर रुख किए लेकिन वहां भी उन्हें निराशा हाथ लगी। क्योंकि कोरोना को लेकर सभी अस्पतालों की व्यवस्था चरमरा गई है। इस बीच रूचि कुमारी, सजन कुमार, प्रियाशुं, प्रीति कुमारी ने दम तोड़ दिया। स्वजन पिंटू और बॉबी को भागलपुर लेकर गए लेकिन बॉबी देवी एवं गगन ने वहां मंगलवार को दम तोड़ दिया। पिंटू यादव अभी जिंदगी और मौत से भागलपुर अस्पताल में जूझ रहा है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस