भागलपुर, जेएनएन। भागलपुर में टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों को इंद्रधनुष 2.0 अभियान के तहत टीके लगाए जाएंगे। सैंडिस कंपाउंड में इस अभियान का शुभारंभ हुआ। इस अवसर पर आयोजित समारोह में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्‍याण राज्यमंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने लोगों से बच्चों को टीका दिलवाने का आग्रह किया।

मंत्री ने कहा कि पीरपैंती, जगदीशपुर और भागलपुर में टीकाकरण 70 से 78 फीसद है। इसे बढ़ाकर 90 फीसद करना है। यह जनता के सहयोग के बिना संभव नहीं है। इस योजना के लिए केंद्र सरकार ने नौ हजार करोड़ राशि खर्च करने का लक्ष्य रखा है। टीके दिलवाने से डिप्थेरिया, टीबी, हेपेटाइटिस-बी, खसरा, दिमागी बुखार एवं अन्य जानलेवा बीमारियों से बच्चों को बचाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अब दिमागी बुखार से बचाव के लिए देश में ही टीके बनाए जा रहे हैं। मधुबनी और मुंगेर में बच्चों को टीके दिए जा रहे हैं। पहले यह टीका चीन से मिलता था।

राज्यसभा सांसद कहकशां परवीन ने कहा कि शिक्षा और स्वास्थ ठीक रहने पर ही देश प्रगति करेगा। स्वास्थ्य के प्रति लापरवाही सही नहीं है। सांसद अजय मंडल ने कहा कि जहां अभिभावक बच्चों को टीके देने से मना करते हैं उन्हें अंगिका में समझाएंगे तो परेशानी नहीं होगी। लोक संपर्क एवं संचार व्यूरो के अपर महानिदेशक एसके मालवीय ने कहा कि नुक्कड़ नाटक, लोकगीतों के माध्यम से लोगों को जागरूक किया जाएगा। स्वागत भाषण स्वास्थ्य विभाग के अपर महानिदेशक एनएन झा ने किया। सिविल सर्जन डॉ. विजय कुमार सिंह ने कहा कि दो अभिभावक बच्चों को टीके लगवाने के प्रति जागरुक हो।

सांस्कृतिक कार्यक्रम

मिशन इंद्रधनुष के उद्घाटन कार्यक्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। लोक गायिका नीतू कुमारी नवनीत बिहार के पारंपरिक लोकगीत गाकर लोगों को बच्चों के टीकाकरण के प्रति अभिभावकों को जागरुक किया। उन्होंने ‘घर-घर अलख जगाएंगे, देश को स्वस्थ बनाएंगे’ ‘चलली गंगोत्री से गंगा मइया, जग के करे उद्धार’ ‘कौने देशे गइले बलमुआ, कांहा होलिया में रंग बीसइब की ना’ ‘रिमझिम रिमझिम पनिया बरसात लेले बा, जेने तेने बदरा के बारात लेले बा’ लोकगीत से दर्शकों को झुमाया। भरत सिंह भारती और भागलपुर आकाशवाणी की सुलेखा रमैया ने भी लोकगीत गाया।

कई स्टॉल लगाए गए: समारोह स्थल पर कई स्टॉल लगाए गए। एक स्टॉल में मरीजों का इलाज किया गया और दवाएं दी गईं। इसके अलावा मलेरिया, परिवार कल्याण, जिला प्रतिरक्षण कार्यालय, टीबी, कुष्ठ उन्मूलन, जिला प्रोग्राम कार्यालय, डाक विभाग कार्यालय के स्टॉल लगाए गए।

रैली निकाली गई: जागरुकता रैली निकाली गई। रैली को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री ने हरी झंडी देकर रवाना किया। रैली में भारत स्काउट एवं गाइड, आंगनबाडी सेविकाएं, नर्सिग स्कूल की छात्रएं आदि शामिल हुई।

ट्रेन में मधुमेह मरीजों को मिले बिना चीनी की चाय: जीवन जागृति सोसायटी के अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार सिंह, पूर्व आइएमए अध्यक्ष डॉ.डीपी सिंह ने केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री को ज्ञापन देकर ट्रेन में मधुमेह मरीजों को बिना चीनी की चाय उपलब्ध करवाने की मांग की। ज्ञापन में कहा गया है, कि देश में नौ फीसद लोग मधुमेह से पीड़ित हैं। प्रतिवर्ष 72 करोड़ रेल से यात्र करते हैं। उन्हें बिना चीनी की चाय नहीं मिलती हे।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस