भागलपुर। करीब आधा दर्जन संगीन मामलों का आरोपित और हत्या की कई वारदात में छह साल से फरार चल रहा बिहपुर का लाली कुंवर उर्फ अजय उर्फ लाली मुखिया मंगलवार को पुलिस के हत्थे चढ़ गया।

वह सोनबर्षा पंचायत की मुखिया नीना देवी का पति है। लाली पर बिहार सहित दूसरे राज्यों में भी कई गंभीर मामले दर्ज हैं। लाली बीएसएफ में था, जहां उसका कोर्ट मार्शल हुआ था। इसके बाद उसे नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया। तब से वह आपराधिक वारदातों को अंजाम देने लगा। यह जानकारी एसएसपी आशीष भारती ने अपने कार्यालय में आयोजित प्रेसवार्ता में दी।

एसएसपी ने बताया कि बीएसएफ से निकाले जाने के बाद वह बिहार समेत बंगाल व अन्य राज्यों में बड़े व्यवसायियों का अपहरण कर फिरौती मांगने लगा। रंगरा इलाके में लाली को गिरफ्तार करने गई बंगाल पुलिस के साथ उसकी मुठभेड़ हो गई थी। उसके दो साथी पकड़े गए थे, लेकिन लाली फरार हो गया। सिलीगुड़ी के बड़े व्यवसायी का शव बेगूसराय के मंझौवा स्थित कुएं से 14 जुलाई 2012 को बरामद हुआ था। इस मामले में भी लाली का नाम सामने आया था।

नवगछिया में भय पैदा करने के लिए करता था अपराध

23 जनवरी 2015 को नवगछिया कोर्ट आने के क्रम में एनएच-31 स्थित बगड़ी पुल के पास कौशल कुंवर एवं बमबम कुंवर की हत्या में भी वह शामिल रहा है। वह बिहपुर समेत नवगछिया पुलिस जिला में अपना वर्चस्व कायम करने के लिए लगातार अपराध कर रहा था। उक्त मामलों में लाली को फरार दिखाते हुए न्यायालय चार्जशीट दाखिल कर दी गई है। उसके आपराधिक इतिहास का पता लगाने के लिए पुलिस ने अन्य राज्यों की पुलिस से भी संपर्क किया है।

विशेष टीम का हुआ था गठन

एसएसपी ने उसकी गिरफ्तारी के लिए नवगछिया एसडीपीओ प्रवेन्द्र भारती के नेतृत्व में एक विशेष टीम का गठन किया था। जिसमें बिहपुर थानेदार रणजीत कुमार, भवानीपुर चौकी इंचार्ज नीरज कुमार, नदी थानेदार महताब खां, झंडापुर चौकी इंचार्ज पंकज कुमार को शामिल किया गया था। पुलिस टीम ने सीमावर्ती जिलों की पुलिस और बिहार के अन्य जिलों से भी उसके आपराधिक इतिहास के बारे में पता लगाने के लिए संपर्क किया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप