भागलपुर/बांका [जेएनएन]। बाथ थाना क्षेत्र के कैथा गांव के अधेड़ किसान श्याम उर्फ संजय पंजिकार की अपराधियों ने सोमवार की रात गोली मारकर हत्या कर दी। घटना सीमावर्ती क्षेत्र कष्टिकरी गांव के बनझोलिया के समीप की है। घटना का कारण जमीन विवाद बताया जा रहा है।

हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सूचना पर बाथ और शंभूगंज थाना की पुलिस भी पहुंची। ग्रामीणों ने हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग पर असरगंज-शंभूगंज पथ को करीब दो घंटे तक जाम कर दिया। भागलपुर से श्वान दस्ता व एफएसएल की टीम के पहुंचने पर जाम समाप्त हुआ।

बता दें कि संजय वर्ष 2008 में जिले में 'किसान श्री' पुरस्कार से सम्मानित हुए थे। मृतक संजय पंजिकार की एक संपन्न किसान के रूप में पहचान थी। उन्होंने मछली पालन के अलावा करीब तीस एकड़ जमीन में पौधरोपण किया था। वे वर्ष 2016 में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के किसान सम्मेलन में गुजरात भी गए थे।

परिजनों ने बताया कि संजय रात के दस बजे बाइक पर सवार होकर असरगंज स्थित डेरा से आ रहे थे। इसी क्रम में अपराधियों ने उनकी हत्या कर दी। पुलिस ने आशंका जताई है कि हत्या से पूर्व संजय की अपराधियों के साथ हाथापाई भी हुई थी। हत्या के बाद अपराधियों ने संजय की बाइक और शव को सड़क किनारे झाड़ी में फेंक दिया। जबकि पास में रहे नकदी, मोबाइल एवं गले से चेन लूट लिया।

मृतक के बड़े भाई कन्हैया पंजिकार ने बताया कि संजय अपने ननिहाल बांका के जगाय गांव में श्राद्ध कर्म का भोज खाकर रात में लौटे था। जहां करीब दस मिनट रूकने के बाद असरगंज के लिए निकल पड़े। मंगलवार की सुबह हत्या की सूचना मिली।

इधर, घटना के बाद परिजनों पर दुखों का पहाड़ टूट गया है। घटनास्थल पर परिवार के सदस्य दहाड़ मारकर रो रहे थे। पत्नी रंजना पंजिकार एवं दो पुत्रियां दिव्या एवं मनीषा बार-बार बेसुध हो रही थी। घटना को लेकर कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं। इसे राजनीति एवं शंभूगंज का भूमि विवाद से भी जोड़ा जा रहा है। फिलवक्त पुलिस मामले की जांच कर रही है।

घटना की जानकारी पाकर विधि व्यवस्था डीएसपी निसार अहमद, सर्किल इंस्पेक्टर अनिल कुमार, सुल्तानगंज थानेदार अमर विश्वास, शाहकुण्ड थानेदार आशुतोष कुमार, शंभूगंज थानेदार एचएस कश्यप समेत असरगंज पुलिस मौके पर पहुंची थी।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस