जागरण संवाददाता, भागलपुर। जिले के शिवनारायणपुर स्टेशन से मालगाड़ी के परिचालन की संभावनाओं को तलाशा जा रहा है। परिचालन शुरू होता है तो भागलपुर समेत दूसरे जिलों के किसान अपने उत्पाद को दूसरे शहरों में आसानी से भेज सकते हैं। किसानों को बहुत सहूलियत होगी। मालगाड़ी परिचालन को लेकर अभी अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है। रेलवे के अधिकारी इसको लेकर मंथन कर रहे हैं। दरअसल, दो वर्ष से कोरोना और लॉकडाउन के कारण माल गाडिय़ों के परिचालन पर रेलवे का ज्यादा फोकस है। रेलवे अपना राजस्व बढ़ाने के लिए विकल्प तलाश रहा है। जल्द ही इस पर बड़ा फैसला लिया जा सकता है। इसके लिए हर स्तर पर बात चल रही है।

लादान के बहाने मिलेंगे रोजगार

शिवनारायणपुर स्टेशन से मालगाड़ी चलने से रेलवे के राजस्व के साथ- साथ व्यापारियों को दूसरे राज्यों में अपने उत्पाद भेजने के लिए ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा। हजारों किसानों को फायदा होगा। अपने उत्पाद को भेजने के लिए ट्रांसपोर्टरों पर आश्रित नहीं रहना होगा। दूसरी ओर जब मालगाड़ी का परिचालन शुरू होता है तो वैगन में माल लोङ्क्षडग के लिए स्थानीय श्रमिकों को रोजगार भी मिल जाएंगे। यहां से मागलागाड़ी नहीं खुलने से काफी परेशानी किसानों को हो रही है। वे रोड के माध्यम से अभी अपना माल बाहर भेज रहे हैं।

मक्का और दूसरे खाद्य पदार्थ की होती है पैदावार

कहलगांव अनुमंडल क्षेत्र में क्षेत्र में आम, चावल, गन्ना, टमाटर, मिर्च की अच्छी पैदावार होती है। वहीं, गंगा पार गोपालपुर, नवगछिया में मक्का, लीची की अच्छी पैदावार होती है। किसान अभी तक अपने उत्पाद को ट्रांसपोर्ट और दूसरे स्टेशनों से मालगाडिय़ों से भेजते हैं। लेकिन शिवनारायणपुर से मालगाड़ी चलने के बाद किसानों को भटकना नहीं पड़ेगा। अभी पीरपैंती से मक्के की लोडिग हो रही है। भागलपुर के अलावा खगडिय़ा, कटिहार, पूर्णिया के साथ झारखंड के कुछ जिलों के व्यापारी मक्का और अन्य उत्पाद को सीधा मालगाड़ी से भेज सकते हैं।  

Edited By: Abhishek Kumar