सहरसा, जेएनएन। अयोध्या में भगवान श्रीराम मंदिर निर्माण को लेकर सारा रास्ता साफ हो गया है। मंदिर भवन निर्माण का भूमि पूजन आगामी 25 अप्रैल या फिर 8 मई, 20 को होगा। इसके बाद अनवरत मंदिर भवन निर्माण कार्य शुरू होगा।

यह बातें राम जन्मभूमि मंदिर ट्रस्ट समिति के सदस्य पूर्व विधान पार्षद और मंदिर के शिलान्यासकर्ता कामेश्वर चौपाल ने सहरसा परिसदन में कही। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के फैसला का सबों ने स्वागत करते हुए मंदिर निर्माण की सहमति दे दी है। देश के करोड़ों लोगों के श्रद्धा अनुरूप ही मंदिर का निर्माण कार्य शुरू हो रहा है। मंदिर निर्माण को लेकर ट्रस्ट की दो बैठक हो चुकी है। मंदिर भवन निर्माण समिति के अध्यक्ष है नृपेंद्र मिश्र एवं ट्रस्ट के अध्यक्ष संत महंथ गोपाल दास जी महाराज है। देश के बड़े विशेषज्ञ सहित कई नामी कंपनियों के इंजीनियरों की पूरी टीम इसका मास्टर प्लान बनाएगी। जिस अनुरूप निर्माण कार्य शुरू होगा। भूमि पूजन के बाद निरंतर मंदिर का भव्य स्वरूप बनना शुरू हो जाएगा। पांच वर्ष के अंदर मंदिर का निर्माण कार्य पूरा कर लिया जाएगा। इस निर्माण कार्य में आम जनों से सहयोग की अपील की गयी है। भूमि पूजन के दौरान मंदिर का मॉडल प्रदर्शित कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि 70 एकड़ में भगवान श्री राम का दिव्य मंदिर बनेगा। यह मंदिर हिन्दुओं के लिए मोक्षदायिनी मंदिर साबित होगा। इस मंदिर में लगनेवाले पत्थर की नक्काशी का काम 70 फीसदी हो चुका है। राम मंदिर का निर्माण नागर शैली में होगा। मंदिर की विशेषता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इस मंदिर निर्माण कार्य में सीमेंट का उपयोग कहीं नहीं किया जाएगा। रंग मंडप में एक साथ 20 हजार श्रद्धालु एक साथ खड़े होकर पूजा अर्चना कर पाएंगे। इस अवसर पर विश्व हिन्दू परिषद के क्षेत्रीय संगठन मंत्री केशव राजू, विभाग मंत्री शारादाकान्त झा, पूर्व विधायक किशोर कुमार मुन्ना, संजीव कुमार झा, सागर कुमार नन्हें, सुमन शांडिल्य, लुकमान अली आदि मौजूद थे।

राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण ट्रस्ट में है 15 सदस्य

श्री राम जन्मभूमि मंदिर के शिलान्यासकर्ता कामेश्वर चौपाल ने कहा कि ट्रस्ट में 15 सदस्य है। जिसमें 9 सदस्य स्थाई हैं। जिन्हें विशेषाधिकार प्राप्त है। ट्रस्ट द्वारा ही 2 सदस्य मनोनीत किए जाएंगे। इसके अलावा भारत सरकार के 3 प्रतिनिधि और उत्तर प्रदेश सरकार के एक प्रतिनिधि शामिल होंगे। वहीं अयोध्या के जिला कलक्टर पदेन सदस्य होंगे। ट्रस्ट में शामिल 9 सदस्यों को ही वोटिंग का अधिकार प्राप्त होगा।

जनसहयोग से बनेगा मंदिर

मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्री राम का मंदिर जनसहयोग से बनेगा। मंदिर निर्माण के लिए आम लोगों से इसमें सहयोग की अपील की गई है। सबों के सहयोग से ही मंदिर का निर्माण होगा। इस मंदिर निर्माण को लेकर कार सेवा भी चलाने पर विचार विमर्श किया जा रहा है।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस