संवाद सूत्र, बांका। जिले की जीविका दीदियां स्वरोजगार के साथ-साथ लोगों को हरियाली का भी पाठ पढ़ा रहीं है। पर्यावरण संरक्षण में भी इनके द्वारा काफी अच्छा कार्य किया जा रहा है। इस साल जीविका द्वारा जिले में तीन लाख 42 हजार पौधे लगाए जाएंगे। इसके लिए तैयारी की जा रही है।

जीविका के पोषण एवं स्वास्थ्य प्रबंधक सलेंद्र कुमार ने बताया कि सरकार द्वारा जीविका दीदियों को काफी जिम्मेदारी सौंपी गई है। जल-जीवन हरियाली योजना के तहत पिछले साल भी जीविका दीदियों द्वारा एक लाख 52 हजार पौधे लगाए गए थे। इस बार इसे बढ़ाकर तीन लाख 42 हजार पौधे लगाने की तैयारी की जा रही है। पौधों के लिए वन विभाग से समन्वय स्थापित किया जा रहा है। सभी पौधा वन विभाग द्वारा उपलब्ध कराया जाएगा। इसमें दो तरह के पौधे लगाए जाएंगे। फलदार और कास्टीय पौधा फलदार में सहजन, अमरूद, अनार और कुछ आम के पौधे देने के लिए बात चल रही है। इसके साथ ही कास्टीय पौधे में सागवान और महोगनी पौधा दिया जाएगा।

हर पंचायत में बनेंगे दो ड्राप प्वांइट

सभी जीविका दीदियों को पौधे आसानी से मिल सके इसके लिए पंचायत स्तर पर दो ड्रॉप प्वांइट बनाए जाएंगे। जहां से दीदियां अपना आधार कार्ड दिखाकर पौधे का उठाव कर सकेंगे। एक दीदी को एक पौधा दिया जाएगा। जिसे वे अपने घर के पास लगाएंगे। पौधा लगाने के साथ वे समाज के लोगों को पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी देंगे।

जल-जीवन हरियाली योजना के तहत जिले में जीविका द्वारा तीन लाख 42 हजार पौधे लगाए जाएंगे। इसके लिए तैयारी की जा रही है। पौधों के लिए वन विभाग से समन्वय स्थापित किया जा रहा है। सभी पौधे वन विभाग द्वारा उपलब्ध कराए जाएंगे।

-संजय कुमार, जिला परियोजना प्रबंधक  

Edited By: Abhishek Kumar