जागरण संवाददाता, खगड़िया: कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के बाद संक्रमितों की संख्या में कमी आने के कारण कुछ ट्रेनों को छोड़कर लगभग सभी ट्रेनों को दोबारा चलाया गया। लेकिन संक्रमण के दौरान जिन ट्रेनों को स्पेशल ट्रेन के रूप में किराया चार गुणा करके चलाया जा रहा था। इन ट्रेनों में आज भी कई ऐसी ट्रेन हैं, जिन्हें स्पेशल ट्रेन के रूप में ही चलाया जा रहा है। खगड़िया होकर गुजरने वाली करीब छह जोड़ी से अधिक ट्रेनों पर उसकी नियत किराए से 30 रुपये अधिक वसूला जा रहा है।

जिसको लेकर कई बार स्पेशल ट्रेन के किराए खत्म करने की मांग की गई है लेकिन रेलवे के कान पर जूं तक नहीं रेंगती है। जेडआरयूसीसी के सुभाष चंद्र जोशी बताते हैं कि इसको लेकर कई बार विभाग को पत्र भी लिखे गए हैं, लेकिन आज तक इन ट्रेनों के किराए कम नहीं किए गए। आज भी स्पेशल ट्रेन के किराए यात्रियों से वसूले जाते हैं। जबकि सुविधाएं सामान्य श्रेणी वाली है। उन्होंने बताया कि 05563/64 समस्तीपुर कटिहार सवारी गाड़ी, 05243/44 सहरसा समस्तीपुर, 05275/ 76 समस्तीपुर से सहरसा, 05263/64 कटिहार समस्तीपुर वाया बरौनी, 55553 सहरसा समस्तीपुर, 55533/34 सहरसा से समस्तीपुर जाने वाली सवारी गाड़ी में आज भी यात्रियों को 10 रुपये की जगह पर 40 रुपये स्पेशल ट्रेन का किराया देना पड़ता है।

पढ़ें : RRB NTPC: ललन सिंह ने की शांति की अपील, कहा- रेलवे और पुलिस खान सर पटना वाले और अन्य के खिलाफ दर्ज मुकदमे वापस ले

जो रेल यात्रियों की जेब पर भारी पड़ रही है। सुभाष चंद्र जोशी ने रेल विभाग से मांग करते हुए कहा कि इन ट्रेनों के किराये में जल्द तब्दीली की जाए। जिससे यात्रियों की जेब पर पड़ने वाले अतिरिक्त खर्च कम हो सके। देखना होगा कि कब तक इन ट्रेनों का किराया पहले की तरह सामान्य होता है। यात्रियों को इससे सहूलियत तो मिलेगी ही साथ ही रेल यात्रा में इनकी संख्या का इजाफा भी होगा।

Edited By: Shivam Bajpai