- 25 नवंबर 2017 की रात हुई थी बिहपुर के झंडापुर महादलित टोले में वारदात

- मौत के मुंह से निकली बिंदी कुमारी की निशानदेही पर पकड़े गए थे हत्यारे

- कोर्ट में स्थानीय निवासी चरित्र राम ने किया प्राथमिकी का समर्थन

-----------------------

जागरण संवाददाता, भागलपुर : प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश तथा पॉक्सो एक्ट के विशेष न्यायाधीश कुमुद रंजन सिंह की अदालत में बुधवार को झंडापुर तिहरे हत्याकांड में अहम गवाह चरित्र राम की गवाही हुई। अपनी गवाही में चरित्र राम ने दर्ज प्राथमिकी का पूरा समर्थन करते हुए घटनास्थल पर पहुंचने के बाद उसने जो देखा था उसकी जानकारी गवाही में दी। पॉक्सो एक्ट के विशेष लोक अभियोजक शंकर जयकिशन मंडल ने चरित्र राम की गवाही कराई।

------------------------

25 नवंबर 2017 की रात हुई थी कनिक राम समेत तीन की हत्या

----------------------

बिहपुर के झंडापुर पश्चिमी पंचायत स्थित महादलित टोले में काली कबूतर स्थान के समीप कनिक राम, उसकी पत्‍‌नी मीना देवी और पुत्र छोटू को बेरहमी से मार डाला गया था। तब हत्यारों ने बिंदी कुमारी को भी अपनी नजर में मार ही डाला था लेकिन धारदार हथियार के कई वार लगने के बाद भी बिंदी कुमारी मौत के मुंह से बच निकली। उसका पटना में उपचार कराया गया। उस दौरान ही जब उसे होश आया तो उसके बयान पर त्वरित कार्रवाई करते हुए नवगछिया एसपी ने आरोपितों में झंडापुर जागीर टोला निवासी मोहन सिंह, झंडापुर के ही कन्हैया झा, मुहम्मद महबूब और बलराम राय उर्फ बाले राय को गिरफ्तार कर लिया था। फरार चल रहे आरोपितों में दयालपुर निवासी अमन झा की भी गिरफ्तारी में पुलिस को सफलता मिल गई। पुलिस अन्य आरोपित की गिरफ्तारी को तकनीकी संसाधनों के जरिए दूसरे जिलों में टोह ले रही है।

Posted By: Jagran