भागलपुर, जेएनएन। इन्हें घर-परिवार और न खुद की चिंता नहीं है। फिक्र है तो केवल आम लोगों की। कोरोना वायरस से बचने के लिए हर कोई घर में कैद है। वहीं, गैंग मैन और ट्रैक मैन रेल पटरियों की हिफाजत कर रहे हैं। अलग-अलग शिफ्ट में गैंग मैन-ट्रैक मैन पूरी तत्परता से काम में जुटे हैं। ट्रेनों का परिचालन बंद है। रेलवे का हर विभाग बंद है। लेकिन, लॉकडाउन में लोगों के बीच खाद्य-पदार्थों को पहुंचाने के लिए मालगाडिय़ां चल रहीं है। हर दिन 12 से 15 मालगाडिय़ों का परिचालन भागलपुर-दुमका, भागलपुर-साहिबगंज सेक्शन पर हो रहा है। ऐसे में परिचालन में कोई दिक्कतें न हो इसके लिए सभी सुबह से रात तक काम कर रहे हैं। सभी कर्मी काम के दौरान दूरी बनाए रखते हैं।

पीडब्ल्यूआइ आरके सिंह कहते हैं कि देश की सेवा पहली प्राथमिकता है। ट्रेनें नहीं चल रही, पर मालगाडिय़ों का परिचालन हो रहा है। ऐसे में सतर्कता नहीं बरती गई तो हादसा होने का खतरा बना रहता है। ट्रैक मैन निरंजन, वरुण दास, पवन कुमार और मीर हुसैन का कहना है कि घरवाले घर में ही रहने के लिए कह रहे हैं। घरवालों को समझाकर निकलता हूं कि मालगाडिय़ां खाद्य-सामग्री लेकर आ रही है। पटरियों को दुरुस्त नहीं किया गया तो सफल परिचालन संभव कैसे होगा। लोगों के घरों तक अनाज नहीं पहुंच सकेगा। भागलपुर-दुमका, भागलपुर-साहिबगंज सेक्शन पर सुबह छह से दो, दोपहर दो से रात 10 और रात 10 से सुबह छह तक पटरियों को चेक करने का काम हो रहा है।

स्टॉफ ट्रेन से आवाजाही कर रहे कर्मी

रेल परिचालन बंद होने के बाद रेल कर्मियों के आने जाने के लिए मालदा रेल मंडल ने दो जोड़ी स्टॉफ ट्रेन चला रही है। दो-दो कोच वाली यह ट्रेन सहिबगंज से जमालपुर और भागलपुर से बारापलासी के बीच चलती है। इसमें रेल कर्मी डियूटी जाते है। सुबह नौ बजे भागलपुर आता है फिर शाम 4.30 में खुलती है। वहीं, साहिबगंज से आने वाली सुबह आठ बजे पहुंचती है।

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस