भागलपुर। भागलपुर नया इतिहास गढ़ने को तैयार है। भागलपुर के प्रतिष्ठित डॉक्टर दंपती ने 13 बीघा जमीन गाधी धाम के निर्माण के लिए उत्सव की आयोजक संस्था दिषा ग्रामीण विकास मंच को देने की घोषणा की। बाका जिले के अमरपुर प्रखंड में इंग्लिश मोड़ के समीप सुभानपुर ग्राम में गाधी धाम स्थापित किया जाएगा। जिसमें गाधी के स्वप्नों को धरातल पर लाने की दिशा में अनवरत यात्रा आरंभ की जाएगी। डॉ. अमरेन्द्र नारायण चौधरी व डॉ. सुजाता चौधरी ने बताया कि उनके मन में कई वषरें से यह विचार था कि बापू के स्वप्न को साकार बनाने की दिशा में कार्य किया जाए। गाधीजी के बारे में जितना अधिक पढ़ा और लिखा उनके स्वप्न को धरातल पर लाने की उत्सुकता उतनी ही प्रबल हुई। जिस महामानव के जन्म पर संसार की सबसे बड़ी पंचायत विश्व अहिंसा दिवस मनाती है उसे अपने ही देश में वो सम्मान नहीं मिल रहा। आज हर अभिभावक अपने बच्चों को विज्ञान की शिक्षा दिलवाते हैं, पर जब वो चर्चाओं में भाग लेते हैं तो इतिहास की बात करते हैं। बगैर पढ़े अपने महापुरुषों के बारे में गलत धारणाएं उनके मन में आती कहां से है, कौन सी वो शक्तियां हैं जो उन्हें ऐसा करने को मजबूर करती हैं! हमें उनके खिलाफ एकजुट होने की जरूरत है।

गाधी उत्सव के अंतिम दिन की शुरूआत बच्चों के बीच परिचर्चा सत्र से आरंभ हुई, जिसमें अमरनाथभाई, देवज्योति, संगीता तिवारी, रानीचौबे एवं मुंगेर से आए किशोर जायसवाल ने भाग लिया। बच्चों को गाधीजी के जीवन से जुड़ी कई कहानियों को बताया गया। दूसरे सत्र में डाडी यात्रा की झलक देखने को मिली, जिसमें गाधी के रूप में कैसर एनके.जानी एवं ग्रामीणों के संग शहर के सैकड़ों प्रबुद्ध जनों ने भाग लिया। इसके बाद बापू की प्रतिमा के सामने ग्रामीणों के साथ संकल्प दिवस मनाया गया, जिसमें दीप प्रज्जवलित कर सबों ने गाधी के सपनों पर चलने का प्रण किया। संकल्प दिवस के बाद मंच से अतिथिजनों का संबोधन सत्र आयोजित किया गया, जिसमें कैसर एनके. जानी, अमरनाथ भाई, आरडी शर्मा, राजीव कात मिश्र, डा. सुजाता चौधरी ने ग्रामीणों को संबोधित किया।