भागलपुर, जेएनएन। यहां के जिला शिक्षा अधीक्षक रहे अमेरिका प्रसाद, अनुमंडल शिक्षा पदाधिकारी रहे गिरीश कुमार समेत दो अभियंता प्रशांत विमल और विजय कुमार तरुण ने बुधवार को अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। इनके विरुद्ध गैर जमानती वारंट न्यायालय ने जारी कर रखा था। न्यायालय में आत्मसमर्पण सह जमानत अर्जी पर वरीय अधिवक्ता कामेश्वर पांडेय ने बहस किया। दूसरे पक्ष की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने चारों आरोपितों की जमानत अर्जी मंजूर कर ली। उन्हें बंध पत्र भरने के बाद मुक्त कर दिया गया।

मालूम हो कि वर्ष 2010 में शाहकुंड में प्रभारी प्रधानाध्यापक रहे शोभाकांत मिश्रा ने जबरन रुपये लेने समेत अन्य गंभीर आरोप में मुकदमा किया था। न्यायालय में तब से सुनवाई चल रही थी। आरोपितों का जिले से तबादला हो जाने के कारण मुकदमे की ताजा स्थिति की जानकारी नहीं हो सकी थी। लगातार अनुपस्थिति के कारण न्यायालय ने उनकी ओर से दाखिल पूर्व के बंध पत्र को खंडित कर गैर जमानती वारंट जारी कर दिया था।

वर्तमान जिला शिक्षा पदाधिकारी मधुसूदन पासवान पर वारंट

वर्तमान जिला शिक्षा पदाधिकारी मधुसूदन पासवान समेत दो पदाधिकारियों के विरुद्ध न्यायालय ने गैर जमानती वारंट जारी कर रखा है। पासवान को भी इस मुकदमे में आरोपित बनाया गया था। उनके लगातार अनुपस्थित रहने के कारण उनके विरुद्ध भी गैर जमानती वारंट निर्गत है। बुधवार को इस मुकदमे के चार आरोपितों ने आत्मसमर्पण कर अपनी जमानत करा ली है। 2010 में मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत में मुकदमा दायर किया गया था।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस