संवाद सूत्र, दिघलबैंक (किशनगंज) : दिघलबैंक प्रखंड अंतर्गत सतकौआ पंचायत में लाखों रुपये की सरकारी राशि गबन करने का मामला वर्तमान मुखिया आशा देवी ने उजागर किया है। जानकारी देते हुए उन्होंने पंचायत कार्यालय में अपने पंचायत सचिव तमीज उद्दीन पंचायत लेखापाल घनश्याम कुमार की मौजूदगी में सभी रजिस्टर्ड पणजी को खंगालते हुए पाया कि 15वीं वित्त योजना के तहत 16 लाख रुपए की राशि को पूर्व पंचायत सचिव मोहम्मद खलील व मुखिया तस्लीमा खातून के द्वारा निकासी कर ली गई है। यह राशि पंचायत में स्वच्छता अभियान को दिखाते हुए डस्टबिन लगाने के लिए निकासी की गई है। इसमें से स्थानीय भेंडर आयशा ट्रेडर्स के नाम से प्रपत्र, बिल जमा है।

यह भी पढ़ें: शौच करने गई तो पीछे-पीछे आ गए जाकिर सर... सातवीं क्लास की छात्रा ने मां-बाप को बताई सरकारी टीचर की करतूत, पिटाई के बाद हुआ गिरफ्तार

इसमें उल्लेख किया गया है की कुल एक हजार दो सौ 80 डस्टबिन पंचायत में लगाना है। प्रत्येक डस्टबिन की कीमत एक हजार 200 की दर से है। वही 1280 पीस डस्टबिन के जगह पर मात्र 66 पीस डस्टबिन पंचायत भवन में रखे पाए गए। जबकि डस्टबिन 1280 पीस होने चाहिए थे। और वह भी गांव के वार्ड और घरों और सार्वजनिक जगहों पर लगाया हुआ रहना चाहिए। परंतु ऐसा नहीं कर पंचायत के पूर्व मुखिया व पंचायत सचिव सरकारी राशि का 16 लाख रुपया गबन कर चुके हैं।

वर्तमान मुखिया ने बताया कि उक्त बाबत मेरे द्वारा प्रखंड विकास पदाधिकारी किशोर कुणाल को लिखित आवेदन दिया है। उन्होंने कहा कि मैंने इसकी जांच की मांग है। जांच के बाद संबंधित दोषियों के ऊपर कार्रवाई करने की मांग की गई है। वहीं इस संबंध में पूछे जाने पर प्रखंड विकास पदाधिकारी किशोर कुणाल ने बताया कि आवेदन प्राप्त हुआ है। इसकी तह में जाकर जांच करते हुए संबंधित दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Shivam Bajpai