भागलपुर। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के महिला छात्रावास संख्या दो में अवैध रूप से रह रही छात्राओं से कमरा खाली कराने का प्रयास करने वाले कर्मचारी की जान पर बन आई है। लड़कियों समर्थक छात्रों ने कर्मचारी के घर पर जाकर न सिर्फ उसके साथ मारपीट की बल्कि जान से मारने की धमकी दी है।

छात्रावास के दरवान जगन्नाथ झा ने इसकी सूचना कोतवाली थाने को देते हुए छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष और छात्रावास अधीक्षक को भी आवेदन दिया है। आवेदन में कर्मी ने लिखा है कि छात्रावास में बिना नामांकन के ही कई छात्राएं रह रही हैं। विवि के आदेश पर कमरा खाली कराने गए थे। जो हमारी जान के लिए खतरा बन गया है। पुरुष छात्रावास संख्या दो के बगल में परिवार के साथ रह रहा हूं। 20 सितंबर को घर में घुस कर चार अज्ञात लोगों ने पिटाई कर दी। घटना से बाद से दरबान का परिवार दहशत में है।

दरबान की शिकायत पर कुलानुशासक डॉ. विलक्षण रविदास ने शनिवार को चार अज्ञात लोगों के खिलाफ विवि थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है। घटना का कारण बताया जा रहा है कि पीजी ग‌र्ल्स हॉस्टल में एक दर्जन से अधिक अवैध छात्रा रह रही है। उन छात्राओं को डीएसडब्ल्यू के निर्देश पर हॉस्टल छोड़ने के लिए कहा था। कुलानुशासक डॉ. विलक्षण रविदास ने कहा कि पूरे मामले की जाच कराई जा रही है। दरबान पर हमला करने वालों ने एक छात्र संगठन के अध्यक्ष का नाम लिया है। उधर घटना को लेकर कर्मचारी सीनेट सदस्य बलराम सिंह ने कहा कि विवि मामले में कड़ी कार्रवाई नहीं करता है तो विवि के सारे कर्मचारी कामकाज ठप करेंगे। कर्मचारी मार खाकर काम नहीं करेंगे।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran