जागरण संवाददाता, भागलपुर। ईद मिलादुन्नबी (बारहवीं शरीफ) के मौके पर निकलने वाले जुलूस-ए-मुहम्मदी में डीजे लाना प्रतिबंधित रहेगा। जुलूस निकालने के पूर्व मुहल्लों को स्थानीय थाना से लिखित अनुमति लेने के साथ कोरोना गाइडलाइन का पालन भी करना होगा। उक्त निर्णय रविवार को मुल्लाचक शरीफ स्थित खानकाह शहबाजिया में गद्दीनशीं सैयद शाह इंतखाब आलम शहबाजी मियां साहब की अध्यक्षता में विभिन्न मुहल्लों के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में लिया गया। पैगंबर हजरत मुहम्मद के जन्मदिवस पर ईद मिलादुन्नबी 19 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

बारहवीं शरीफ के मौके पर खानकाह शहबाजिया में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जाएगा। 19 अक्टूबर को विभिन्न मुहल्लों से निकलने वाला जुलूस ए मुहम्मदी दोपहर 12 बजे खानकाह शहबाजिया पहुंचेगा। जुलूस में डीजी नहीं रहेगा। लाउडस्पीकर पर कम आवाज में नातिया कलाम पढ़ा जाएगा। खानकाह में गद्दीनशीं सैयद शाह इंतखाब आलम शहबाजी मियां साहब जुलूस का स्वागत करेंगे। इसके बाद नातिया कलाम पेश किया जाएगा। सलात व सलाम के साथ गद्दीनशीं विशेष दुआ करेंगे। अशां की नमाज के बाद रात नौ बजे कदम रसूल को गुस्ल दिया जाएगा। खानकाह परिसर स्थित शाहजहांनी मस्जिद में मुए मुबारक और गिलाफे काबा का दर्शन लोगों को कराया जाएगा।

(खानकाह शहबाजिया में आयोजित बैठक में शामिल गद्दीनशीं सैयद शाह इंतखाब आलम शहबाजी व विभिन्न मुहल्लों के प्रतिनिधि।)

यह भी पढ़ें : बिहार, झारखंड और उड़ीसा को फतह करने वाले आठवें अमीर-ए-शरीयत की खुशामदीद करेगा मुंगेर

बैठक में हबीबपुर, खंजरपुर, बरहपुरा, भीखनपुर, इशाकचक, साहेबगंज, चंबेलीचक, सदरुद्दीन चक, हुसैनाबाद, हुसैनपुर के अध्यक्ष व सचिव के अलावा मदरसा जामिया शहबाजिया के हेड मुदर्रिस मुफ्ती फारूक आलम अशरफी मिस्बाही, मदरसा जामिया शाहजंगी पीर के मुफ्ती आलमगीर और मौलाना गजाली भी मौजूद थे। बारहवीं शरीफ से एक दिन पहले 18 अक्टूबर को शाहजहांनी मस्जिद में विभिन्न स्कूल के बच्चों और मदरसा के छात्रों के बीच नातिया प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। सफल छात्रों को सैयद शाह इंतखाब आलम शहबाजी पुरस्कृत करेंगे।

Edited By: Shivam Bajpai