भागलपुर, जेएनएन। दैनिक जागरण के लोकप्रिय कार्यक्रम हेलो डॉक्टर में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. सीमा सिंह ने फोन के माध्यम से पाठकों के सवालों का समाधान किया। उन्होंने कहा कि गर्भावस्था में नियमित आयरन और कैल्शियम की दवा खाने से बीपी की समस्या नहीं होती। शरीर को ऑक्सीजन की कमी नहीं होती है। हीमोग्लोबीन का मात्रा भी ठीक रहती है। गर्भावस्था के दौरान आठ घंटे सोना लाभदायक है।

वहीं भोजन में कमी होने की वजह से कमजोरी होने लगती है। छह-सात बार खाना चाहिए, जिसमें फल खाना अनिवार्य है। गर्भधारण करने के पूर्व महिलाओं को इसके लिए मानसिक तौर पर खुद को तैयार करना चाहिए। इसके लिए आवश्यक है कि अपने खानपान के प्रति ध्यान दें। गर्भस्थ शिशु का विकास मां के खानपान पर ही निर्भर करता है। हीमोग्लोबीन की कमी से प्रसव के वक्त या बाद में रक्तस्राव की आशंका बढ़ जाती है। अक्सर ऐसा देखा गया है कि माहवारी के दौरान सफाई का ध्यान नहीं रखने की वजह से संक्रमण हो जाता है। सफेद पानी का स्राव होने लगता है और उसमें दुर्गंध भी रहती है। इस कारण सफाई का ध्यान रखना आवश्यक है। माहवारी के समय पैड का उपयोग करना जरूरी है।

प्रश्न : दो वर्षों से कमजोरी लगती है। शौच से आने के बाद परेशानी ज्यादा होती है। - नीता कुमारी, सबौर

कैल्शियम की कमी से माहवारी के समय कमजोरी होती है। कैल्शियम के साथ ही पौष्टिक आहर लें। अनार, सेव, लाल साग का सेवन करें। ज्यादा कमजोरी हो तो अस्पताल में इलाज करवा लें।

प्रश्न : मैं 40 वर्ष की हूं। ज्यादा चलने से सांस फूलने लगती है। ऐसा छह माह से हो रहा है। - प्रतिमा, रामसर

इस उम्र में माहवारी बंद होने लगती है। हार्मोन में बदलाव की वजह से भी परेशानी होती है। कैल्शियम की कमी होने लगती है। दूध, मछली आदि का सेवन करें।

प्रश्न : आठ माह की गर्भवती हूं। कभी-कभी पेट में दर्द होने लगता है। - प्रियंका कुमारी, अलीगंज

पहली बार गर्भवती हुई हैं तो डॉक्टर के संपर्क में रहें। सुबह खाली पेट नहीं रहें। दिन भर में छह-सात बार खाएं। भोजन भी ज्यादा करें। रात में आठ घंटा सोना लाभदायक है। सुबह खाली पेट रहने से गैस्टिक हो सकती है।

प्रश्न : तीन सप्ताह से लिकोरिया है। कमर में दर्द रहता है। थायरायड की दवा खाती हूं। - सरिता कुमारी, बरारी

प्रत्येक तीन माह में थायरायड की जांच अस्पताल में करा लें। लिकोरिया की दवा पति और पत्नी दोनों को खाना होगा। माहवारी के समय पैड का उपयोग करें साथ ही सफाई पर ध्यान दें। गर्म पानी से स्नान करने से कमर की मांसपेशियों में सिकुडऩ नहीं रहेगी।

प्रश्न : मेरी उम्र 50 वर्ष है। बच्चदानी से स्राव होता है। - शांति देवी, लहेरीटोला

यह लक्षण कैंसर होने का भी हो सकता है। पैप्समीयर की जांच करवा लें। अल्ट्रासाउंड करवाने से यह जानकारी मिलेगी कि बच्चादानी में संक्रमण है या नहीं।

प्रश्न : आठ वर्ष से माहवारी बंद है। वजन बढ़ गया है। - कविता सिंह, भागलपुर

शारीरिक श्रम ज्यादा करें। संतुलित भोजन करें। थायरायड की जांच करवा लें।

प्रश्न : ओवरी में सिस्ट है, तीन माह से माहवारी बंद है।

अल्ट्रासाउंड करवा लें और डॉक्टर की सलाह से नियमित दवा का सेवन करें। ओवरी में सिस्ट होने से माहवारी में रुकावट होती है।

प्रश्न : दो माह से गर्भवती हूं। उल्टी बार-बार होती है। - सिप्रा सुमन, सुलतानगंज

डॉक्टर की सलाह पर उल्टी रोकने की दवा खाएं। प्रतिदिन दो ग्लास दूध, दाल, लाल साग, चुकंदर, अंडा खाने से लाभ होगा।

प्रश्न : पीठ और घुटने में दर्द है। एक वर्ष पूर्व बच्चादानी निकाली गई है। - किरण, सबौर

बच्चादानी निकालने की वजह से कैल्शियम आदि की कमी होने से दर्द होता है। हड्डी मजबूत हो इसके लिए दूध का सेवन करें ताकि कैल्शियम की कमी पूरी हो सके। सोयाबीन भी फायदेमंद है।

प्रश्न : खाना खाने के बाद पेट में दर्द होने लगता है। समय पर माहवारी भी नहीं होती है। - रिंकू कुमारी, भागलपुर

पेशाब में संक्रमण होने से भी दर्द हो सकता है। अस्पताल में जांच करवा लें।

प्रश्न : सिर में चक्कर आता है। खाने की इच्छा नहीं होती। कभी-कभी आंखों के सामने अंधेरा छा जाता है। - उषा देवी, खरमनचक

खून की कमी हो सकती है, अथवा रक्तचाप भी कम हो सकता है। ज्यादा पानी पीएं और बीपी, शुगर आदि की जांच करवा लें। वजन ज्यादा है तो कम करें।

 

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस