भागलपुर [जेएनएन]। तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. विभाष चंद्र झा के इस्तीफे की अटकलें तेज होती जा रही है। पटना स्थित विवि के गेस्ट हाउस में सात दिनों से खड़ी कुलपति की सरकारी गाड़ी मंगलवार को वापस लौट गई। कुलपति के सुरक्षा गार्ड और सरकारी गाड़ी के चालक गेस्ट हाउस में कुलपति का इंतजार कर रहे थे। उम्मीद थी कि नौ सितंबर को राजभवन में समीक्षा बैठक में वे शामिल होंगे, लेकिन वे बैठक में शामिल नहीं हुए।

विवि में आ गई है ठहराव की स्थिति

भुस्टा के महासचिव डॉ. जगधर मंडल ने कहा है कि कई दिनों से कुलपति के मुख्यालय से बाहर रहने के कारण यहां ठहराव की स्थिति आ गई है। भुस्टा ने उम्मीद जताया है कि उनकी अनुपस्थिति में जो भी निर्णय या फैसले लिए गए होंगे, उसमें कुलपति की सहमति रही होगी। भुस्टा ने कहा है कि जल्द ही ठहराव की स्थिति समाप्त हो जाएगी।

कुलपति के नहीं रहने से टला छात्र संघ का चुनाव

तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय में छात्र संघ चुनाव समय पर नहीं होने की उम्मीद बढ़ गई है। 15 दिनों पूर्व चुनाव प्रक्रिया इस उद्देश्य के साथ प्रारंभ की गई कि सितंबर में पहले चरण का चुनाव करा लिया जाए। 31 अगस्त को पुराने छात्र संघ को भंग कर दिया गया है।

15 से 30 सितंबर के बीच पहले चरण का चुनाव कराने की घोषणा हुई थी। लेकिन अब तक तिथि की घोषणा नहीं की जा सकी है। 27 अगस्त से कुलपति के मुख्यालय से बाहर रहने के कारण तिथि घोषित नहीं की जा सकी है। विश्वविद्यालय में कुलपति के वापस लौटने पर संशय बना हुआ है। पांच सितंबर तक कुलपति डॉ. विभाष चंद्र झा ने दैनिक कार्यों के संपादन की जिम्मेदारी प्रति कुलपति डॉ. रामयतन प्रसाद को दी थी। पांच सितंबर के बाद स्थिति स्पष्ट नहीं हो रही है। विवि के कोई भी अधिकारी इस मामले में कुछ बताने या बोलने की स्थिति में नहीं हैं।

छात्र कल्याण संकायाध्यक्ष डॉ. योगेंद्र का कहना है कि छात्र संघ चुनाव की तिथि की घोषणा कुलपति ही कर सकते हैं। उनके आदेश के बिना तिथि की घोषणा नहीं हो सकती है। सितंबर में चुनाव होने से छात्र संघ के निर्वाचित प्रतिनिधियों को एक साल तक काम करने का मौका मिलता। पूर्व के छात्र संघ को विवि में मात्र छह महीना ही काम करने का अवसर मिला था। स्नातक की कक्षाओं में नामांकन की प्रक्रिया पूरी हो रही थी, इस वजह से मतदाता सूची भी तैयार हो जाता। वैसे 16 सितंबर को नामांकन समाप्त होने के बाद मतदाता सूची तैयार होगी। विवि के अधिकारी बताते हैं कि कुलपति के नहीं रहने से जरूरी संचिकाओं का निष्पादन नहीं हो रहा है।

कॉलेज स्तर पर चुनाव

छात्र संघ चुनाव में कॉलेज स्तर पर अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव, संयुक्त सचिव, कोषाध्यक्ष का निर्वाचन होगा। इसके अलावा प्रति एक हजार छात्रों पर विवि प्रतिनिधि का भी चयन होना है। अगर कॉलेजों में एक हजार से कम छात्र या छात्राएं हैं तो भी एक पद विवि प्रतिनिधि का होगा। मतदाता सूची तैयार होने के बाद किन कॉलेजों में कितने विवि प्रतिनिधियों का निर्वाचन होगा, इसकी जानकारी मिलेगी।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस