संवाद सहयोगी, लखीसराय। तेजी से बढ़ते शहरीकरण, बढ़ रही समस्याएं, तनाव, असंतुलित आहार आदि के कारण लोग मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप की चपेट में आ रहे हैं। जिले में ग्रामीण क्षेत्र की अपेक्षा शहरी क्षेत्र के लोग मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप के अधिक शिकार हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़े के मुताबिक नौ माह में जिले में 1,441 मधुमेह एवं 1,231 उच्च रक्तचाप के मरीज मिले हैं। इसमें से 1,407 मधुमेह के एवं 1,195 उच्च रक्तचाप के मरीज सिर्फ लखीसराय, बड़हिया नगर परिषद एवं हलसी में मिले हैं।

मधुमेह व उच्च रक्तचाप के लक्षण

मधुमेह - वजन में कमी आना, अधिक भूख-प्यास व पेशाब लगना, थकान, ङ्क्षपडलियों में दर्द, देर से घाव भरना, हाथ-पैर में झुनझुनाहट, नपुंसकता आदि। उच्च रक्तचाप - लगातार सिर दर्द होना, धुंधली या दोहरी ²ष्टि, नाक से खून आना, सांस लेने में तकलीफ आदि।

मधुमेह व उच्च रक्तचाप के बचाव के उपाय

मधुमेह - नमक, चीनी, गुड़, घी, दूध, आइसक्रीम, मिठाई, मांस, अंडा, सूखा नारियल आदि खाने से परहेज करना चाहिए। हरी सब्जियां, खीरा, टमाटर, प्याज, लहसुन, नींबू, सामान्य मिच्र, ज्वार, गेहूं के आटा की रोटी, करेला, मेथी आदि का उपयोग करना चाहिए।

उच्च रक्तचाप - तनाव से बचना चाहिए, वजन कम करना, नियमित रूप से व्यायाम, स्वस्थ व ताजा आहार, नमक का कम उपयोग करना चाहिए।

---

कोट

वर्तमान समय में लोग भागदौड़ अधिक करते हैं। तेजी से बढ़ते शहरीकरण, तनाव एवं पाश्चात्यकरण के कारण लोग शुद्ध घरेलू खाना को छोड़कर फास्ट फूड लेना पसंद करते हैं। इसके अलावा लोग शारीरिक श्रम भी नहीं करते हैं। इस कारण लोग मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप से ग्रस्त हो जाते हैं। मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप के रोगी ग्रामीण क्षेत्र में कम होते हैं। जबकि शहरी क्षेत्र में अधिक होते हैं। लोगों को नियमित रूप से व्ययायाम, शारीरिक श्रम एवं पैदल चलने की आदत डालनी चाहिए। लोगों को घरेलू शुद्ध एवं ताजा भोजन करना चाहिए। फास्ट फूड से परहेज करना जरूरी है। -डा. पीके सिन्हा

 

Edited By: Abhishek Kumar