भागलपुर [जेएनएन]। बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि सरकार तपोवर्द्धन प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र के विकास में हरसंभव मदद करेगी। उन्होंने कहा कि पुरानी परंपरा से जुड़ी है योग, आयुर्वेद और प्राकृतिक चिकित्सा। सभी को एक साथ मिलाकर इसका विकास किया जाना चाहिए।

मोदी मायागंज स्थित तपोवर्द्धन प्राकृतिक चिकित्सा केंद्र का अवलोकन करने आए थे। यहां आने पर उन्होंने केंद्र के निदेशक डॉ. जेता सिंह से संस्थान की समुचित जानकारी ली। उन्होंने कहा कि भागलपुर में यह केंद्र वर्षों से चल रहा है, इसकी जानकारी उन्हें बाद में मिली। यहां मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आ चुके हैं।

सुशील मोदी ने कहा कि सरकार ने इसके विकास में 50 करोड़ की सहायता दी है जिसमें नौ करोड़ रुपये केंद्र को दिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा है कि यह केंद्र देश के सर्वश्रेष्ठ केंद्रों में विकसित हो। कहा कि इस केंद्र से नेहरू, जेपी और विनोबा भावे से जुड़े रहे हैं। केंद्र को और अधिक विकसित करने की आवश्यकता है। कहा कि आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा की विधा को खत्म नहीं किया जा सकता है। अब समय आ गया है इसे नए तरीके से चलाने की। मोदी ने केंद्र में निदेशक सहित अन्य सदस्यों के साथ बैठक की। वहां के विजीटर बुक में केंद्र के संबंध में उन्होंने लिखा। इस अवसर पर महासचिव सत्यजीत सहाय, डॉ. मनीष, भाजपा जिला अध्यक्ष रोहित पांडेय, युवा मोर्चा के प्रदेश मंत्री बंटी यादव, मेयर सीमा साहा, नितेश और प्राणिक बाजपेयी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Dilip Shukla

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप