भागलपुर। नाथनगर कबीरपुर स्थित चंपापुर दिगंबर जैन सिद्ध क्षेत्र में धर्मालंबियों का महापर्व दशलक्षण 14 तारीख से शुरू हो रहा है। इसको लेकर तैयारियां जोर-शोर से चल रही है। महापर्व में शामिल होने के लिए महाराष्ट्र, गुजरात हरियाणा, एमपी, दिल्ली सहित कई राज्यों से श्रद्धालु पहुंचते हैं। जैन धर्म के दशलक्षण धर्म महापर्व ऋषि पंचमी से अनंत चतुर्दशी तक मनाए जाते हैं। इसमें जैन समाज के लोग मंदिर में सुबह अभिषेक, शातिधारा पूजन और विधान आदि धार्मिक अनुष्ठान करते हैं। सिद्धक्षेत्र के महामंत्री सुनील जैन ने बताया कि श्रद्धालु बड़ी संख्या में पहुंच गए हैं इनके ठहरने से लेकर भोजन का विशेष व्यवस्था की गई है। इस पर्व में 10 धमरें का विशेष रूप से पालन किया जाता है। महापर्व पर पूज्य मुनिराज विप्रण सागर जी महाराज, झुल्लक ध्यान सागर जी, आर्यिका गरिमामति माता जी, आर्यिका गंभीरमति माता जी जैसे संतों का समागम होगा। इनके प्रवचन से श्रद्धालु सराबोर होंगे।

------------

ये हैं 10 धर्म

उत्तम क्षमा, उत्तम मार्दव, उत्तम आर्जव, उत्तम शौच, उत्तम सत्य, उत्तम संयम, उत्तम तप, उत्तम त्याग, उत्तम आकिचन, उत्तम बहुधर्य।

Posted By: Jagran