भागलपुर। जवाहर लाल नेहरू मेडिकल अस्पताल (जेएलएनएमसीएच) की व्यवस्था भगवान भरोसे है। यहां मरीजों को इलाज के दौरान मुफ्त में कई बीमारियां भी बांटी जा रही हैं। आउटडोर स्थित सबसे महत्वपूर्ण पैथलॉजी की साफ-सफाई नहीं की जा रही है। ऐसे में मरीजों के संक्रमण से पीड़ित होने का खतरा बना हुआ है।

अस्पताल के आउटडोर विभाग की पहली मंजिल पर पैथलॉजी है। कमरा संख्या 48 में पैथलॉजी सेंटर खोला गया है, ताकि मरीज आसानी से खून, पेशाब आदि की जांच करवा सकें और उन्हें भटकना नहीं पड़े। लेकिन पैथलॉजी में गंदगी पसरी रहती है। पैथलॉजी के बेसिन में खून आदि के नमूने फेंके गए हैं। लेकिन सफाई नहीं की जाती। बेसिन में रक्त, पेशाब के नमूने भी फेंके जाते हैं।

जांच रिपोर्ट की गुणवत्ता पर भी उठ रहा प्रश्नचिह्न

पैथलॉजी में रक्त व पेशाब से दुर्गध फैली हुई है। मरीज उक्त पैथलॉजी में नमूने देते हैं और टेक्नीशियन नमूने एकत्र कर रखते हैं। ऐसी स्थिति में जांच रिपोर्ट की गुणवत्ता पर भी प्रश्न उठना लाजिमी है। साथ ही नमूने देने वाले मरीज भी टायफायड, हेपेटाइटिस बी आदि बीमारियों से ग्रसित हो सकते हैं। बेसिन का पाइप भी फटा हुआ है साथ ही इसलिए पानी का उपयोग भी नहीं किया जाता।

- पैथलॉजी की सफाई नहीं हो रही है इसकी मुझे जानकारी नहीं दी गई है। शीघ्र साफ-सफाई करवा दी जाएगी।

डॉ. आरसी मंडल, अधीक्षक, जेएलएनएमसीएच

- पैथलॉजी में गंदगी है तो जांच प्रभावित हो सकती है। इसके अलावा नमूना देने वाले मरीजों को टायफायड, हेपेटाइटिस बी आदि रोग भी होने की संभावना रहती है।

डॉ. मुकेश साह, पैथलॉजिस्ट

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप