भागलपुर [कौशल किशोर मिश्र]

कनाडा और पंजाब पुलिस का वांछित गुरप्रीत और वीरेंद्र धारीवाल की तलाश पूर्वी बिहार में हो रही है। पंजाब पुलिस की एसटीएफ ने पुलिस मुख्यालय को इस संबंध में जानकारी दे उसका लोकेशन भागलपुर, खगड़िया और पूर्णिया में मिलने की बात कही है। जिसके बाद बिहार एसटीएफ ने दोनों की तलाश शुरू कर दी है। इस सिलसिले में एसटीएफ की टीम ने भागलपुर, खगड़िया और पूर्णिया में गतिविधियां बढ़ा दी है। दोनों कनाडा के टोरंटो से लौटकर पंजाब से बड़े पैमाने पर बिहार में शराब तस्करी करने लगे। पंजाब के मानसा जिले में 29 मई 2020 को पंजाबी गायक सिद्धु मूसेवाला की हत्या बाद गोल्डी बराड़ गैंग से नाता रखने वाले बदमाशों की तलाश में पंजाब एसटीएफ सख्त हो गई। जिसके बाद गुरप्रीत और वीरेंद्र पूर्वी बिहार में शराब तस्करी के एक बड़े सिडिकेट की पनाह में यहां चला आया है। पंजाब की एसटीएफ को तकनीकी निगरानी में दोनों के लोकेशन भागलपुर, पूर्णिया और खगड़िया में मिले हैं।

विदेशी नंबरों से इंटरनेट मीडिया पर फर्जी आइडी बना रंगदारी मांगने के मामले में गुरप्रीत और वीरेंद्र धालीवाल से नाता रखने वाले प्रिस और विकास को पंजाब पुलिस ने पांच अगस्त 2022 को ही पूर्वी चंपारण के लुकारियां से गिरफ्तार कर लिया था। दोनों ने गुरप्रीत और वीरेंद्र समेत गिरोह के कई सदस्यों के नाम एसटीएफ को बताए हैं। प्रिस और विकास ने भी कनाडा में बैठे गैंगस्टर गोल्डी बराड़ गिरोह से नाता रखने वाले गुरप्रीत और वीरेंद्र धालीवाल के संबंध में कई चौंकाने वाली जानकारियां दी हैं। दोनों से उनकी हाल में हुई बाचतीत के दौरान दोनों के बिहार में होने की जानकारी मिली।

--------------------

दोनों शातिरों के नाम कनाडा सरकार की तरफ से जारी गैंगस्टर की सूची में शामिल

गुरप्रीत और वीरेंद्र पंजाब पुलिस के साथ-साथ कनाडा में भी वांछित हैं। वहां की सरकार ने हाल ही में गैंगस्टरों को लेकर पब्लिक सेफ्टी वार्निंग जारी की थी। ब्रिटिश कोलंबिया की संयुक्त फोर्स स्पेशल एनफोर्समेंट यूनिट ने जिन 11 गैंगस्टरों की सूची जारी की थी उसमें इन दोनों के भी नाम हैं।

पूर्वी चंपारण में गिरफ्तार प्रिस और विकास से मिली जानकारी के बाद दोनों के विदेशी नंबरों से बड़ी रंगदारी मांगे जाने को लेकर भी पुलिस मुख्यालय ने जांच शुरू कर दी है।

भागलपुर के बड़े स्वर्ण व्यवसायी विष्णु वर्मा से 70 लाख की मांगी थी रंगदारी

पूर्वी चंपारण से प्रिस और विकास की गिरफ्तारी बाद पुलिस मुख्यालय के निर्देश पर पुलिस की स्पेशल टीम भागलपुर, बेगूसराय और मुजफ्फरपुर के बड़े स्वर्ण व्यवसायी से रंगदारी मांगे जाने की भी जांच शुरू कर दी है। भागलपुर में बड़े स्वर्ण व्यवसायी और डिप्टी मेयर राजेश वर्मा के भाई विष्णु वर्मा से 70 लाख की रंगदारी मांगे जाने मामले में जांच का दायरा बढ़ा दिया गया है। व्यवसायी वर्मा से नौ फरवरी 2022 को मोबाइल पर मैसेज भेज रंगदारी मांगी गई थी। इसी तरह की रंगदारी का मामला बेगूसराय और मुजफ्फरपुर में भी सामने आया है। एसएसपी बाबू राम ने मामले में बेगूसराय और मुजफ्फरपुर पुलिस से भी संपर्क साध जांच का दायरा बढ़ाने का निर्देश दिया था। ताजा मामला सामने आने के बाद जांच को गति मिलेगी।

Edited By: Jagran