भागलपुर, जेएनएन। जिले में संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बीच शुक्रवार को कोरोना संदिग्धों के लिए राहत भरी खबर है। घंटाघर स्थित टीचर्स ट्रेनिंग कॉलेज में बने कोविड सेंटर से एक साथ 34 लोगों ने कोरोना से जंग जीत ली। सभी को सेंटर से डिस्चार्ज कर दिया गया। डिस्चार्ज होने वालों में ज्यादा नगवछिया प्रखंड के हैं। वहीं, शहरी क्षेत्र के आधा दर्जन लोग हैं। अब कुल मिलाकर 127 मरीज भर्ती है। इसमें टीटीसी में 103 और जेएलएनएमसीएच में 24 मरीज हैं। जीने की आस छोड़ चुके सभी के आंखों में छुट्टी के वक्त आंखों से खुशी के आंसू छलक पड़े। कुछ देर के लिए सेंटर परिसर गमगीन हो गया। चिकित्सक और स्वास्थ्यकर्मियों ने तालियां बजाकर इनका हौसला आफजाई किया।

दोबारा नहीं हुई जांच, 14 दिन रहेंगे होम क्वारंटाइन में

जिन कोरोना मरीजों को शुक्रवार को टीटीसी से डिस्चार्ज किया गया। उन सभी को दोबारा जांच नहीं हुई। सभी को बांड भराकर घर भेज दिया गया। सभी को 14 दिनों तक घर में क्वारंटाइन रहने का निर्देश दिया गया है।

संक्रमितों ने कहा, चिकित्सकों का हूं शुक्रगुजार

जब नवगछिया के मरीज एंबुलेंस में बैठ रहे थे तो इनके चेहरे पर मुस्कान दिखा। सभी के आंखों से खुशी के आंसू निकल रहे थे। दूर से ही सही चिकित्सकों को जिदंगी भर शुक्रगुजार करने की बात कही। नवगछिया के संक्रमित युवक ने कहा कि कोरोना की दवा अभी तक नहीं बना। लेकिन चिकित्सकों ने पूरी तरह ठीक कर दिया।

कोरोना से डरे नहीं मुकाबला करें

डॉ. अमित शर्मा ने ठीक होकर घर जाने वाले लोगों को बधाई दी और सभी का हौसला आफजाई किया। उन्होंने कहा कि कोरोना से डरने की जरूरत नहीं है, इसका मुकाबला करें। उन्होंने कहा कि हर दिन मरीज डिस्चार्ज हो रहे हैं। सभी को होम क्वारंटाइन रहने को कहा गया है। सभी क्वारंटाइन के बाद समाज और लोगों को जागरूक करेंगे, ताकि इस संक्रमित बीमारी की चपेट में नहीं आ सकें।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस