भागलपुर [जेएनएन]। छाती में दर्द की अनदेखी नहीं करें। हृदय रोग का लक्षण भी हो सकता है अथवा गैस्टिक की वजह से भी दर्द होने की संभावना रहती है। हृदय रोग से बचने के लिए मोटापा को कम करना आवश्यक है। फास्ट फूड का सेवन और आरामतलबी जीवनशैली की वजह से मोटापा बढ़ता है और बीपी और मधुमेह के मरीज भी हो जाते हैं। जिन लोगों को बीपी या मधुमेह है उसे नियंत्रित करना आवश्यक है। इसके लिए चिकित्सक द्वारा दी गई सलाह के मुताबिक ही दवा और खानपान करना चाहिए। सुबह टहलना आवश्यक है।

वहीं तैलीय पदार्थ खाने से भी परहेज करना चाहिए। भारी वजन उठाने के आदि लोगों की मांसपेशियों में दर्द होने की संभावना कम होती है। लेकिन जिस व्यक्ति को भारी वजन उठाने की आदत नहीं है और अचानक वजन उठाता है उसकी मांसपेशियों, गर्दन और कमर में दर्द होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए अगर वजन उठाना भी है तो संभलकर। गैस्टिक से पेट, पीठ, सिर और छाती में दर्द होने लगता है। मौसम बदलने पर एलर्जी से पीडि़त लोगों की बीमारी बढ़ जाती है। दम फूलने के अलावा बेचैनी भी बढ़ती है। धड़कन अगर तेज है तो ईसीजी, टीएमटी करवाने से उसकी गति की जानकारी मिलती है। अगर नियमित व्यायाम करे, मौसमी फलों का सेवन करें तो कई बीमारियों से बचाव किया जा सकता है। रविवार को दैनिक जागरण में आयोजित प्रश्न पहर में आए छाती एवं हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. मनीष कुमार से पाठकों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का समाधान बताया।

प्रश्न : रात में सोते समय कभी-कभी छाती में दर्द होता है। बीपी है।

योगेश शर्मा, कजरैली

उत्तर : ठंड में बीपी बढ़ जाता है। नियमित जांच करवाते रहे। बीपी को कंट्रोल रखें। छाती में दर्द होता है तो ईसीजी करवा लें।

प्रश्न : चलते वक्त छाती के दाएं तरफ दर्द होता है। बीपी भी है।

एसएस रजा, भीखनपुर

उत्तर : ईसीजी करवा लें। अगर ईसीजी नार्मल है तो हृदय रोग की समस्या नहीं है। टीएमटी भी करवाने से हृदय की धड़कन की गति की जानकारी मिलती है। ईको करवाने से हृदय के वाल्व की स्थिति की जानकारी मिलती है कि वाल्ब सिकुड़ रहा है अथवा नहीं। वसायुक्त भोजन नहीं करें, नियमित टहलें। बीपी है तो धूप निकलने के बाद टहलें।

प्रश्न : किस उम्र में हृदय रोग होता है या हार्ट अटैक होता है। मो. सलीम, भीखनपुर

उत्तर : युवाओं की बदलती जीवनशैली में अब उम्र का कोई मतलब नहीं रहा गया है। एक दशक पूर्व 45 वर्ष के बाद लोग बीपी या हृदय रोग से पीडि़त होते थे अब तो 20 और 30 वर्ष की उम्र में भी युवा हृदय रोग से पीडि़त होने लगे हैं। वजह है फास्ट फूड का सेवन और शारीरिक श्रम नहीं करना।

प्रश्न : पांच माह से छाती के दाहिने तरफ दर्द होता है। सीढ़ी चढऩे वक्त दर्द बढ़ जाता है। बीपी भी है। अशर्फी, लालूचक

उत्तर : बीपी को नियंत्रित रखें। कंट्रोल नहीं करने से हृदय रोग होता है। छाती में दर्द होता है तो इसे नजरअंदाज नहीं करें, ईसीजी करवा लें।

प्रश्न : साइकिल चलाते समय और सीढ़ी पर चढ़ते समय छाती में दर्द होने लगता है। दम फूलने लगता है और आवाज बंद हो जाती है। बीपी भी है। देवेंद्र शर्मा, जीरो माइल

उत्तर : हो सकता है आप अस्थमा से पीडि़त हो।, जांच करवा लें। बीपी को कंट्रोल में रखें।

प्रश्न : बोलने के दौरान दम फूलने लगता है। मेरी उम्र 25 वर्ष है और वजन 80 किलोग्राम। नायक झा, भ्रमरपुर

उत्तर : वजन कम करें। मधुमेह और थायरायड की जांच करवा लें। सांस की बीमारी भी हो सकती है। व्यायाम करें।

प्रश्न : चार दिनों से छाती में दर्द हो रहा है। सायनस है। रात में ठंडा पानी पीने से कभी-कभी छाती में दर्द होने लगता है। रोजी, लालबाग

उत्तर : गैस्टिक या फेफड़ा में संक्रमण भी हो सकता है। या गैस्टिक भी हो सकता है। जांच करवा लें। गर्म पानी में विक्स डालकर भांप लें।

प्रश्न : खर्राटा आने से अचानक नींद टूट जाती है और घबराहट होने लगती है। स्वेता पाण्डेय, तिलकामांझी

उत्तर : वजन ज्यादा है तो कम करें। कॉलेस्ट्रॉल की जांच करवा लें। कभी-कभी सांस की नली में सिकुडऩ होने से ही यह परेशानी होती है।

प्रश्न : जब भी वाहन चलाता हूं तो चक्कर आने लगता है। मो. अफरोज, सबौर

उत्तर : बीपी होने से भी ऐसा होता है। बीपी की जांच करवा लें। तंबाकू खाना छोड़ दें।

प्रश्न : खांसने पर छाती में दर्द होता है। यह स्थिति एक सप्ताह से है। हल्का बुखार भी रहता है। बलगम नहीं निकलता है। संजय, कटघर

उत्तर : एक्सरे करवा लें। हो सकता है टीबी हो। बिना चिकित्सक की सलाह से दवा नहीं खाएं। ठंडा पानी नहीं पीएं। गर्म पानी में नमक डालकर गलाला करें।

प्रश्न : छाती में प्राय: दर्द होता है। किसी भी समय दर्द होने लगता है। सौरभ, पीरपैंती

उत्तर : गैस्टिक होने से छाती में दर्द होता है। इको और ईसीजी करवा लें।

प्रश्न : पिछले एक वर्ष से बुखार रहता है। दवा देने के बाद बुखार उतर जाता है फिर 15 दिनों के बाद बुखार हो जाता है। राजेश कुमार, सुल्‍तानगंज

उत्तर : टीबी या टायफायड भी हो सकता है। पेशाब का कल्चर करवा लें। अस्पताल में सारे इलाज की व्यवस्था निशुल्क है।

प्रश्न : मेरी उम्र 20 वर्ष है। पेट की चर्बी बढ़ गई है। वजन 80 किलो है। वजन कैसे कम करूं। संतोष कुमार, सुलतानगंज

उत्तर : शारीरिक श्रम करें। वसायुक्त भोजन करने से परहेज करें। फास्ट फूड नहीं खाएं। मौसमी फलों का सेवन करें और नियमित व्यायाम करें।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस