भागलपुर। टीएमबीयू के लालबाग स्थित पीजी ग‌र्ल्स हास्टलों के भवनों से बाढ़ का पानी निकल गया है। परिसर में अब भी पानी जमा हुआ है। सोमवार को कुछ हास्टलों में साफ-सफाई शुरू कर दी गई है। पीजी हास्टल नंबर एक और दो में सफाई कर्मी भवनों की सफाई में जुटे हुए थे, किंतु उन्हें ब्लीचिंग या अन्य सामग्री नहीं दी गई है। बाकी हास्टलों में ताले लटके हुए हैं। हास्टल के भूतल स्थित छात्राओं के कमरों की बुरी स्थिति है। तीन से चार फीट पानी के कारण कमरों में रखा सामान नष्ट हो गया है। जो छात्राएं कमरे में पर रखी किताब-कापियों को नहीं हटा सकी थीं वे भी बर्बाद हो गए हैं।

हालांकि अभी छात्राएं नहीं हैं, इस कारण कमरों की सफाई शुरू नहीं हो सकी है। हास्टलों में तैनात गार्ड ने बताया कि परिसर में भी जहरीले जीवों का खतरा है। बाढ़ का पानी उतरने के बाद कई बार जहरीले सांप कैंपस और हास्टल के भवनों में दिखे हैं, जिससे भय का माहौल होता है। छात्राओं के कमरे बंद हैं, ऐसे में अंदर भी सांप या जहरीले जीव हो सकते हैं। बड़े हास्टल के भवनों की सफाई के लिए दो-चार स्टाफ नाकाफी हैं। उनका कहना है कि पूरी तरह सफाई के लिए अतिरिक्त मजदूरों की आवश्यकता है। अन्यथा वे लोग पूरी तरह सफाई कर भी नहीं सकेंगे।

हास्टल की स्थिति को जानने के लिए दो नंबर हास्टल की अधीक्षक डा. रूचि श्री पहुंची थी, किंतु हास्टल के बाहर पानी जमा होने और गंदगी के कारण वे लौट गई। कुछ और हास्टलों की अधीक्षकों ने गार्ड से फोन पर ही स्थिति की जानकारी ली। अभी भी सभी हास्टलों के बाहर पानी जमा हुआ है। वहीं लालबाग में पूर्वी भाग स्थित शिक्षक आवासों में अब भी पानी जमा हुआ है। पश्चिमी, उत्तरी और दक्षिणी भाग स्थित आवासों से पानी निकल गया है। कई शिक्षकों ने वहां की सफाई शुरू करा दी है।

Edited By: Jagran