भागलपुर। मानसून सिर पर है। मौसम विभाग का दावा है कि 15 से 20 जून के बीच जिले में मानसून सक्रिय हो जाएगा, लेकिन अभी तक जलजमाव से निपटने की तैयारी 20 फीसद भी नहीं हो सकी है। शहर के 350 छोटे-बड़े नालों में से 277 नालों की उड़ाही होनी बाकी है। अब दो सप्ताह में बचे नालों की सफाई निगम कैसे करेगा, यह बड़ा सवाल है?

दरअसल, नाले की उड़ाही का काम 24 अप्रैल से शुरू हो गया था। लॉकडाउन में सड़कें खाली होने का फायदा नगर निगम नहीं ले सका। उड़ाही के काम में तेजी दिखाई होती तो लॉकडाउन-4 तक काम पूरा हो जाता, लेकिन ऐसा नहीं हो सका। निगम ने 40 मजदूरों के गैंग को सफाई के लिए लगाया है।

स्वास्थ्य शाखा प्रभारी मो. रेहान ने बताया कि मुख्य नालों के बाद अब अन्य बड़े नालों की सफाई जेसीबी से होगी। अभी तक बौंसी रोड, मिरजानहाट मार्ग, बरहपुरा व नरगा समेत आठ बड़े नालों की सफाई कराई गई है। मोहल्ले की छोटी-बड़ी नालियों की उड़ाही के लिए जोनल प्रभारियों को मजूदरों उपलब्ध कराया गया है। शाखा प्रभारी के अनुसार मानसून से पहले सभी नालों की सफाई हो जाएगी। उन्होंने कहा कि जलजमाव वाले मोहल्ले में विशेष अभियान चला कर सफाई की जाएगी। इसमें मानिकपुर, वारसलीगंज, गोलाघाट, आदमपुर व साहेबगंज के साथ हसनाबाद शामिल है। फिर झेलना होगा डेंगू का प्रकोप

शहर के अधिकांश नालों की सफाई नहीं होने से मच्छरों का प्रकोप भी बढ़ा है। अगर यही स्थिति रही तो इस साल भी लोगों को डेंगू का प्रकोप झेलना पड़ सकता है। पिछले साल सुरखीकल सहित कई मोहल्लों में डेंगू का प्रकोप बहुत ज्यादा था। हालांकि, निगम अधिकारियों के अनुसार फॉगिंग के लिए सभी वार्डो को एक-एक पोर्टेबल मशीन उपलब्ध कराई जाएगी, जबकि मुख्य सड़क व बाजार में फॉगिंग के लिए एक बड़ी मशीन की खरीदारी की जाएगी। कोट..

सभी नालों की सफाई को लेकर जोन प्रभारियों को निर्देश दिया गया है। काम तेजी से हो रहा है। जलजमाव वाले इलाके में प्राथमिकता के आधार पर सफाई का निर्देश दिया गया है।

- सत्येंद्र वर्मा, उपनगर आयुक्त

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस