भागलपुर [रजनीश]। भागलपुर रेलवे जंक्शन पर बुधवार को 72 दिन बाद यात्री ट्रेन की छुक-छुक सुनाई दी। लाल कोच वाली ब्रह्मपुत्र मेल (स्पेशल ट्रेन) की आवाज और हॉर्न सुनकर यात्रियों और रेलकर्मियों के चेहरे खुशी से चहक उठा। अब यहां के लोगों को जल्द ही दूसरी ट्रेनें भी चलने की उम्मीद जगी है। स्टेशन पर स्टॉल संचालकों के चेहरों पर भी रौनक लौटी दिखी। ब्रह्मपुत्र मेल की आवाज आखिर बार 22 मार्च की सुनाई दी थी। पहले की तरह आज सुबह भी स्पेशल बनकर पहुंची ब्रह्मपुत्र मेल निर्धारित समय से 20 मिनट विलंब आठ बजे एक नंबर पर पहुंची। ट्रेन में भागलपुर से सफर करने वाले यात्री घेरे में खड़े होकर अपने-अपने कोच में प्रवेश किए। डिसप्ले बोर्ड में ट्रेन के कोचों की जानकारी बराबर दी जा रही थी। इस कारण पैसेंजर को किसी तरह की दिक्कतें नहीं हुई।

आरपीएफ इंस्पेक्टर अनिल कुमार सिंह और जीआरपी थानाध्यक्ष अरविंद कुमार जवानों के साथ चौकस थे। यात्रियों को शारीरिक दूरी बनाकर कोच में सवार होने की ताकीद करते दिखे। पहले दिन स्पेशल ट्रेन निर्धारित 10 मिनट की जगह 17 मिनट रुकी। यात्री आराम से ट्रेन में सवार हुए। सिग्नल हरा होने के बाद गार्ड ने हरी झंडी दिखाई और ट्रेन भागलपुर से दिल्ली के खुली। दरअसल, लॉकडाउन के बाद ट्रेनों का परिचालन बंद था। लोग जहां-तहां फंसे थे। अभी पहली ट्रेन डिब्रूगढ़-दिल्ली के बीच चली है। लेकिन, जल्द ही दूसरी ट्रेनों का परिचालन भी होगा। ट्रेनों के चलने की जानकारी से यात्री काफी खुश दिखे। टिकटों की बुकिंग भी यात्री वापसी के लिए करा रहे हैं। भागलपुर से आठ जून तक स्पेशल ब्रह्मपुत्र मेल में जगह नहीं है। वहीं, दिल्ली से 22 जून तक ट्रेन फुल है।

Posted By: Dilip Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस