भागलपुर [जेएनएन]। निर्धारित समय से लगभग आठ दिन बाद बिहार में 20 जून तक मानसून का आगमन हो होगा। तपती धरती की प्यास बुझेगी। किसानों ने खरीफ में खेती के लिए अपनी तैयारियां शुरू कर दी है। कई प्रगतिशील कृषकों ने तो रोहणी नक्षत्र में धान के बिचड़े की बोआई भी अपने संसाधनों के बल पर कर दिया है।

मौसम निदेशालय पटना के मौसम वैज्ञानिक ने बताया कि अंडमान निकोबार में निर्धारित समय 18 मई को ही मानसून का आगमन हो गया था, लेकिन वहां कमजोर पड़ जाने की वजह से अब तक केरल नहीं पहुंच पाया है। मौसम वैज्ञानिक ने कहा अब उसकी स्थिति थोड़ी मजबूत हुई है और धीरे-धीरे आगे बढऩा शुरू हो गया है। उन्होंने कहा कि 10 से 12 जून तक बिहार में मानसून के पहुंचने का समय है, लेकिन विलंब होने की वजह से अब 20 तक पहुंचने की उम्मीद है। इस बार 96 फीसद सामान्य बारिश होने की संभावना है। आठ दिन विलंब से मानसून के आगमन की पुष्टि बीएयू मौसम विभाग के नोडल पदाधिकारी प्रो. बीरेंद्र कुमार ने भी की है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dilip Shukla