संवाद सूत्र, चंद्रमंडी(जमुई)। Bihar Teacher Recruitment:जिले के चकाई प्रखंड मुख्यालय स्थित एसके हाई स्कूल परिसर में शुक्रवार को हो रही तीन पंचायतों के शिक्षक नियोजन की काउंसिलिंग के दौरान उस वक्त सनसनी फैल गई, जब काउंसिलिंग के दौरान सर्टिफिकेट जांच के क्रम में एक महिला अभ्यर्थी का कागजात फर्जी पाया गए। बीडीओ दुर्गा शंकर ने बताया कि बांका जिले के अमरपुर थाना क्षेत्र के चपरी गांव निवासी सीता कुमारी पति श्रवण साह फरियाताडीह पंचायत से शिक्षक नियोजन के लिए काउंसिलिंग कराने पहुंची थी। इसी क्रम में उसकी कागज की जांच पड़ताल की जा रही थी, तभी कागजात के फर्जी होने का अनुमान हुआ।

जब गहराई से इसकी जांच पड़ताल की गई तो सीता कुमारी का सर्टिफिकेट फर्जी पाया गए। सीता कुमारी श्वेता कुमारी के नाम से सर्टिफिकेट खरीद कर अपना फोटो उस पर चिपका कर काउंसिलिंग के लिए आई थी। जिसे जांच में फर्जी पाया गया। महिला का असली नाम सीता कुमारी ही है। उसने शिक्षक नियोजन का लाभ लेने के लिए बीसी पद के लिए श्वेता कुमारी का सर्टिफिकेट खरीद कर अपना फोटो चिपकाकर काउंसिलिंग के लिए पहुंची थी, जबकि श्वेता कुमारी नाम के व्यक्ति का नियोजन पूर्व में कहीं दूसरे जगह हो चुकी है।

इधर फर्जी सर्टिफिकेट का मामला प्रकाश में आने के बाद पुलिस ने सीता कुमारी को हिरासत में ले लिया और थाने ले गई। थाने में बीडीओ ने बताया कि फर्जी कागजात के आधार पर शिक्षक नियोजन के लिए कागजात जमा करने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज की जा रही है। बीडीओ दुर्गा शंकर ने बताया कि पंचायत सचिव अर्जुन यादव के लिखित आवेदन पर सीता कुमारी पर केस दर्ज किया जाएगा।

इसके लिए थाने को लिखित रूप से दे दिया गया है। इधर शिक्षक नियोजन कार्य से जुड़े कुछ लोगों ने बताया कि कई अन्य लोग भी जांच के रडार पर हैं। आने वाले समय में इस तरह की गड़बड़ी और सामने आ सकती है। इस अवसर पर चकाई थाना अध्यक्ष राजीव कुमार तिवारी ,बीईओ अशोक चौधरी, पंचायत सचिव अर्जुन यादव आदि मौजूद थे।

Edited By: Shivam Bajpai