संवाद सहयोगी, बौंसी (बांका)। पंचायत चुनाव को लेकर दुर्गा पूजा में मतदाताओं की बल्ले बल्ले रही। कुछ उम्मीदवारों ने अपने वोटरों को साधने के लिए घर- घर मिठाई का पैकेट भेजे। जबकि , कुछ ने बच्चों का नाम लेकर मेला खर्चा भी दिए। यानी वोटरों के घरों की समस्या नेताजी की समस्या बनी हुई है। स्थिति ऐसी है कि नेताजी वोटरों की सभी दुख दर्द बांट लेना चाह रहे हैं।

वहीं, नगर पंचायत के 41 वार्ड के वोटर पंचायत चुनाव से अलग होने के कारण अपने आप को कोस रहे हैं। बाजार के एक प्रमुख पूजा पंडाल में चौपाल में बैठे युवा आपस में चर्चा करके अफसोस कर रहे थे। पंचायत चुनाव के मेला से अलग होकर नगर पंचायत के कुछ वोटर इस चुनावी गंगा में डुबकी नहीं लगाने का चेहरे पर साफ मायूसी देखी जा सकती है।

जानकारी हो कि बौंसी को नगर पंचायत का दर्जा मिलने के बाद कसबा मंदार पंचायत के 16 वार्ड, बभनगामा पंचायत के 15 वार्ड, इसके अलावा दलिया के आठ वार्ड एवं बभनगामा के तीन वार्ड का अस्तित्व पूरी तरह से समाप्त हो गया है।

इस कारण से बगल के पंचायत में चुनाव होने से नगर पंचायत के कुछ स्टार प्रचारक बगल के पंचायत में अपने चहेते उम्मीदवार के चुनाव प्रचार करने में जुटे हुए हैं। इसमें कुछ राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता भी शामिल हैं। एक पंचायत में तो एक बड़ी पार्टी के प्रखंड अध्यक्ष की पत्नी भी मुखिया उम्मीदवार के रूप में चुनावी मैदान में भाग्य आजमा रहीं है। प्रखंड के 14 पंचायतों में सुबह से ही उम्मीदवारों के युवाओं की टोली बाइक से अपने उम्मीदवार के पक्ष में वोटरों को लुभाने की कोशिश करने में जुट जाते हैं। महिला उम्मीदवार भी अहले सुबह ही घर का काम-काज निपटा कर महिलाओं की टोली बनाकर गांव की गलियों में घूम घूम कर प्रचार करती है। कुल मिलाकर पंचायत चुनाव का ²श्य अनोखा बना हुआ है।

 

Edited By: Abhishek Kumar