भागलपुर, जेएनएन। Bihar Assembly Elections 2020 :  आम लोगों की सुरक्षा और विधि-व्यवस्था बनाए रखने के साथ पुलिस को बूथों के निरीक्षण की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है। इसके लिए एसएसपी आशीष भारती ने जिले के सभी थानों के पुलिस पदाधिकारियों की सूची बनाई है। किसी पदाधिकारी को दस तो किसी को बीस बूथों के निरीक्षण की जिम्मेदारी दी गई है। जोगसर, कोतवाली, हबीबपुर, मोजाहिदपुर, तातारपुर समेत कई थानों के पुलिस पदाधिकारियों ने अपने-अपने क्षेत्र के बूथ भवनों की स्थिति, पेयजल, शौचालय, बिजली समेत सभी बिंदुओं की जांच की। सभी की रिपोर्ट विधानसभा चुनाव से पूर्व सरकार को भेजी जाएगी। ताकि चुनाव से पूर्व बूथों की खामियों को दूर किया जा सके। चुनाव कर्मियों की परेशानी को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया है। एक सप्ताह के भीतर मुख्यालय को रिपोर्ट भेजी जाएगी।

आज से पहुंचने लगेगी अर्धसैनिक बलों की कंपनियां

विधानसभा चुनाव को देखते हुए अर्धसैनिक बलों की कंपनियां बुधवार से पहुंचने लगेगी। प्रथम चरण में कहलगांव और सुल्तानगंज में मतदान होना है। यहां बीएसएफ, सीआइएसएफ, एसएसबी, आइटीबीपी और आरपीएफ जवानों की तैनाती रहेगी। मतदान से पूर्व स्थानीय पुलिस की मदद से इलाके का भूगोल जानेंगे। फिर वाहनों की तलाशी, गश्ती और सर्च ऑपरेशन का रणनीतिक अभ्यास करेंगे। वाहनों की सघन तलाशी के लिए शहरी क्षेत्र में बांस-बल्ली की बैरिकेडिंग शुरू हो गई है। अर्धसैनिक बलों को ठहराने के लिए बरारी उच्च विद्यालय, आइटीआइ, पॉलिटेक्निक कॉलेज, जिला स्कूल परिसर में व्यवस्था की गई है।

हटाए गए राजनीतिक दलों के बैनर

नगर निगम की टीम ने मंगलवार को भी शहर में लगे राजनीतिक दलों के होर्डिंग और बैनर हटाए। इसके लिए निगम की टीम ने तिलकामांझी चौक से जीरोमाइल चौक के बीच अभियान चलाया। निगम के स्थापना शाखा प्रभारी रेहान अहमद ने बताया कि बरारी रोड में सात बैनर हटाए गए। विधानसभा चुनाव की घोषणा के बाद से आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। इसको लेकर शहर के होर्डिंग हटाए गए हैं। शहर में चार दिनों 4800 से अधिक बैनर को हटाए गए।

दुमका डीआइजी तय एजेंडे में करेंगे सहयोग

शांतिपूर्ण और निष्पक्ष चुनाव की दिशा में डीआइजी सुजीत कुमार ने दुमका के डीआइजी से वर्चुअल संवाद किया। तय एजेंडे पर दोनों अधिकारियों ने एक दूसरे को सहयोग करेंगे। चुनाव के समय सीमा क्षेत्र पर संयुक्त अभियान चलाया जाएगा।  सीमावर्ती थानों की सीमा से लगने वाले गांवों की सूची तथा उन गांवों में रहने वाले अपराधी और असामाजिक तत्वों की सूची का आदान-प्रदान होगा। सीमावर्ती जिले में पडऩे वाले रास्ते और आवागमन के रास्तों की मुकम्मल सूची प्रदान की जाएगी। अंतरराज्यीय सीमा पर लगाए जाने वाले बैरियर और अंतरराज्यीय सीमा में प्रवेश करने वाले वाहनों और व्यक्तियों को रोकने के लिए बैरियर लगाए जाएंगे। बिहार-झारखंड सीमा से सटे जिले की पुलिस संयुक्त गश्त करेगी। असामाजिक तत्वों, अपराधियों, स्थायी वारंटी, इश्तेहारी मुजरिम की सूची का आदान-प्रदान करेगी। उनके विरुद्ध की गई कार्रवाई से भी अवगत कराएगी।  अवैध शराब और अवैध हथियार की तस्करी रोकने की दिशा में प्रभावी मदद करेगी।  पुलिस अधिकारियों ने नक्सली गतिविधियों पर भी एक दूसरे को सहयोग पर सहमती दी है। इसके लिए संयुक्त कांबिंग की कार्य योजना, संचार व्यवस्था तथा अंतरराज्यीय नक्सली अपराधियों के संबंध पर सकारात्मक बातें हुई। फेरी घाट पर नावों के संचालन, फसल लूट की घटना आदि पर भी बातें हुई।

 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस