जागरण संवाददाता, भागलपुर। बाइपास थाने के समीप खनन विभाग के चेकपोस्ट के पास ओवरलोड ट्रकों के पासिंग को लेकर हुए हंगामा और दुर्व्यवहार को लेकर खनन की टीम देर रात तक दूसरे थाने में केस दर्ज कराने को चक्कर लगाती रही। घटना बाइपास थानाक्षेत्र में हुई थी। वहां से थानाध्यक्ष अमित कुमार ट्रकों का पीछा कर बरारी थानाक्षेत्र में गाड़ी पकड़ी। ऐसे में घटनास्थल तो बाइपास थानाक्षेत्र ही होगा। पुलिस अवैध तरीके से निकाली गई गाड़ी का पीछा बाइपास थाने के समीप खनन चेकपोस्ट से किया था। ऐसे में केस दर्ज तो वहीं होनी चाहिए।

खनन विभाग के पदाधिकारियों की टीम और ट्रक मालिकों के दल औद्योगिक थाने में केस दर्ज कराने पहुच गया। थानाध्यक्ष राजकुमार ने दोनो पक्षो को दो टूक कहा दिया कि हमारे थानाक्षेत्र की घटना जब नहीं है तो केस दर्ज कैसे कर सकता। बाइपास थाने में केस दर्ज कराइए। बात नहीं बनी तो निराश दोनो पक्ष बरारी थाने पहुँचे। थानाध्यक्ष नवनीश कुमार को घटनास्थल बरारी बता केस दर्ज करने को कहा। दलील दी गई कि बाइपास थानाध्यक्ष अमित कुमार ने बरारी थानाध्यक्ष के समीप ट्रक को पकड़ा है। उक्त दलील पर बरारी थानाध्यक्ष नवनीश कुमार ने जिला खनन पदाधिकारी सर्वेश कुमार सम्भव को कहा कि घटनास्थल पर चलिए। वहां का अवलोकन किया जाएगा। केस हमारे यहां बनेगा तो केस दर्ज किया जाएगा।

थानाध्यक्ष ने जिला खनिज पदाधिकारी की दलील पर कहा कि जब ट्रक या आरोपित का पीछा बाइपास थाने के पास से वहां के थानाध्यक्ष अमित कुमार ने किया तो घटनास्थल बरारी कैसे हो सकता है। मामले में नवनीश कुमार खनिज पदाधिकारी के साथ घटनास्थल का मुआयना करने के बाद बुधवार को केस दर्ज करने पर निर्णय लेने की बात कही है। उधर कामाख्या नगर निवासी संजय चौधरी ने खनन पदाधिकारियों पर मारपीट-गाली गलौज करने समेत रुपये लेकर ओवरलोड ट्रकों को पास करने का आरोप लगा केस दर्ज करने का आवेदन औद्योगिक थाने में दिया। थानाध्यक्ष ने उक्त आवेदन घटनास्थल वाले थाने में देने की बात कह उनके आवेदन को अस्वीकृत कर दिया।

 

Edited By: Dilip Kumar Shukla