भागलपुर, जागरण संवाददाता। भागलपुर जिले के पीरपैंती स्थित छोटी दिलौरी गांव में तीन दिसंबर को नीलम देवी की नृशंस हत्या के बाद से उनकी इकलौती बेटी नीतू अनहोनी की आशंका से दहशत में है। वह कहती है वारदात के बाद घर में ही दुबकी पड़ी हूं। अफसर आते हैं हाल जानकर लौट जाते हैं। घर पर चार-पांच की संख्या में पुलिस वाले हैं, लेकिन वह भयभीत है कि उसकी मां के हत्यारे शकील और जुद्दीन कहीं उसे भी न मार दे। वह कैसे पढ़ाई के लिए स्कूल जाएगी। गांव से निकल कर पीरपैंती बाजार या स्कूल जाने का इकलौता रास्ता अजगरा पहाड़ी से सटे घनी झाड़ियों से होकर है। वहां शेख शकील, जुद्दीन और उसके नाते-रिश्तेदारों ने घर बना रखे हैं।

वहीं, मंगलवार को आरोपित शकील और जुद्दीन को जेल भेज दिया गया। दोनों ने स्वीकार किया है कि उन्होंने ही नीलम देवी की हत्या की थी। उन्हें आक्रोश था कि नीलम देवी उनसे दो लाख रुपये लेकर लौटा नहीं रही थीं। आरोपितों को जेल भेजने के बाद पीरपैंती में तीन दिनों के बाद माहौल की गर्माहट में थोड़ी कमी देखी गई। हालांकि पुलिस गांव में मुस्तैदी से तैनात है। वहीं, छोटी दिलौरी गांव के अन्य लोग भी अनहोनी की आशंका से भयभीत हैं। लोग इस बात की आशंका व्यक्त कर रहे हैं कि फिलहाल पुलिस की विशेष गश्ती में उस रास्ते से आवाजाही कर ले रहे हैं, लेकिन यह स्थिति कब तक रहेगी। पुलिस भी चली जाएगी।

‘मां के हत्यारों को फांसी मिले, यही होगी सच्ची श्रद्धांजलि’

वहीं, दूसरी तरफ नीलम देवी हत्याकांड में गिरफ्तार हत्यारोपित को फांसी की सजा की मांग तेज हो गई है। मृतका के पति, दोनों पुत्र, पुत्री व अन्य स्वज न उसे फंसी दिए जाने की मांग लगातार कर रहे हैं। उसके पुत्र कुंदन सहित अन्य स्वजन ने कहा कि अब एक ही मांग है न्यायालय हत्यारोपित शकील को फंसी से कम सजा न दी जाए। यही हमारी मां के लिए सच्ची श्रद्धांजलि होगी। मिलने आए नेताओं से भी मांग की गई है। सही मदद तभी होगा जब अपराधियों को फंसी की सजा सभी लोग मिलकर दिलवा दें। जो जैसा किया उसे वैसी ही सजा मिलनी चाहिए।  

खेतों में काम, दूध की खरीद-बिक्री से बनने लगी दूरी

अजगरा पहाड़ की तलहटी पर अनाधिकृत रूप से रहने वालों की भी संख्या काफी है। वहां कटिहार, किशनगंज, झारखंड के साहेबगंज, मालदा के कलियाचक के भी कुछ लड़के रहते हैं, जिनकी संलिप्तता मवेशी चोरी में रही है। मृतका की बेटी नीतू कहती है कि पहाड़ की तलहटी में उन्हीं लोगों का कुनबा है। नीलम हत्याकांड के बाद से लोग सशंकित हैं। पुलिस की विशेष गश्ती के बीच लोग बहुत जरूरी होने पर ही आवाजाही कर रहे हैं। खेती करने और दूध बेचने के लिए भी लोग मुख्य रास्ते पर नहीं जा रहे हैं। नीतू के मामा कैलाश कहते हैं कि माहौल खराब हो गया है। इंटरनेट मीडिया पर गलत प्रतिक्रिया व्यक्त की जा रही है।

Gaya Crime News: बंदूक की नोक पर नाबालिग छात्रा को रास्‍ते से उठाया, सामूहिक दुष्‍कर्म कर 3 आरोपी हुए फरार

बिहार में दो भाइयों ने दोहराया श्रद्धा हत्याकांड! सरेआम महिला के साथ बर्बरता, जीवित अवस्था में ही काटे कई अंग

Edited By: Aditi Choudhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट