जागरण संवाददाता, अररिया : अररिया भूकंप के मामले में रेड जोन में आता है। यहां पहले भी कई बार भूकंप का झटका महसूस किया गया है। इसके लिए लोगों को भूकंप आने पर उससे बचाव की समुचित जानकारी होनी चाहिए। यह बातें डीएम प्रशांत कुमार सीएच ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अधिकारियों से कही। उन्होंने कहा कि 15 से 21 जनवरी तक जिले में भूकंप सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा। इस दौरान विभिन्न गतिविधियों के माध्यम लोगों को भूकंप के झटके महसूस होने पर कैसे बचाव करना है इसकी जानकारी दी जाएगी।

संवेदनशील है अररिया 

डीएम ने कहा कि अररिया जिला भूकंप की दृष्टिकोण से रेड जोन के अंतर्गत आता है, भूकंप के मामले में अत्यंत संवेदनशील जिलों के श्रेणी में है। भूकंप एक आकस्मिक रूप से घटित होने वाली प्राकृतिक आपदा है, जिसमें व्यापक स्तर पर संरचनात्मक, पर्यावरण व जानमाल का नुकसान होता है। भूकंप से निपटने के प्रमुख उपायों में भूकंपरोधी भवन, अर्थक्वेक रिस्पांस, भूकंप होने पर बचाव कार्य आदि के लिए सभी को प्रशिक्षित एवं जागरूक होना जरूरी है। इसी उद्देश्य से प्रत्येक वर्ष की तरह इस साल भी जिले में भूकंप सुरक्षा सप्ताह मनाया जाएगा।

गाइडलाइन का पालन करते चलेगा अभियान

डीएम ने कहा कि कोरोना महामारी को लेकर जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए अभियान चलाया जाएगा। भूकंप सुरक्षा सप्ताह कार्यक्रम के दौरान विभिन्न प्रकार के जागरूकता व प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित की जाएगी। संबंधित अधिकारी जनप्रतिनिधि, शिक्षक, भवन निर्माण सामग्री विक्रेता राजमिस्त्री, युवा, स्वयं सेवकों आदि अभियान में शामिल रहेंगे।

स्कूली बच्चों को किया जाएगा जागरूक

जिले के विद्यार्थियों को भूकंप सुरक्षा के प्रति जागरुक करने के लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी को निर्देशित किया गया। आमजन को भूकंप सुरक्षा के प्रति संवेदनशील व सजग बनाने के लिए शिक्षकों, जीविका दीदियों एवं आंगनबाड़ी सहायिकाओं के माध्यम से भूकंप सुरक्षा संबंधी पंपलेट वितरित किए जाएंगे तथा जिला मुख्यालय, अनुमंडल मुख्यालय, प्रखंड मुख्यालय एवं प्रमुख सार्वजनिक स्थानों पर होर्डिंग्स फ्लैक्सी लगाया जाएगा। वीडियो कांफ्रेंसिंग में जिला स्तरीय, अनुमंडल व प्रखंड स्तरीय पदाधिकारी मौजूद थे।

Edited By: Shivam Bajpai