भागलपुर [जेएनएन]। भागलपुर में एसिड अटैक की शिकार बिटिया के घाव भरने की कवायद शुरू हो गई है। डाक्टरों की टीम से फिटनेस क्लियरेंस मिलने के बाद सोमवार को छात्रा के हाथ की ड्राफ्टिंग की। लगभग तीन घंटे चली सर्जरी के दौरान शरीर के दूसरे हिस्से की स्किन को पीडि़ता के हाथों पर चढ़ाया गया।

विशेषज्ञों के अनुसार सर्जरी पूरी तरह से सफल रही। इस सर्जरी के बाद पीडि़ता के सेहत में तेजी से सुधार आने लगेगा। दर्दनाक घटना के एक महीने पूरे भागलपुर में एसिड अटैक की घटना को एक महीने पूरा हो गए। 19 अप्रैल की रात पड़ोसी के मकान से होते घर में घुसे दरिंदों ने छात्रा पर एसिड से हमला कर दिया था। इस घटना ने भागलपुर ही नहीं, बल्कि पूरे बिहार को भी झकझोर दिया था। सिगरा स्थित समयन हास्पिटल में पीडि़ता जीवन और मौत से जंग लड़ रही है।

कौन सुने फरियाद

मंहगे इलाज खर्च और दवाओं में एक महीने से उलझे बिटिया के पिता अपनी बेबसी पर रो रहे हैं। अपनी व्यथा सुनाते हुए उन्होंने बताया कि शासन और प्रशासन से उन्हे इंसाफ की दरकार है। अंदेशा जताया कि हमलावरों को बचाने के लिए साजिश रची जा रही है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dilip Shukla