जागरण संवाददाता, भागलपुर। बिहपुर के झंडापुर बाजार निवासी कपड़ा-गल्ला व्यवसायी विनोद कुमार जैन के घर तीन दिन पहले हुए डाका कांड का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया। लूटे गए बीस लाख नकदी में से 15 लाख पांच हजार 150 रुपये और सोने-चांदी के जेवरात के साथ पांच डकैतों को भी दबोच लिया। सभी झंडापुर ओपी क्षेत्र के औलियाबाद गांव के निवासी हैं। 72 घंटे में कांड का भंडाफोड़ करने वाली पुलिस टीम को शाबाशी देने के लिए डीआइजी सुजीत कुमार भागलपुर से नवगछिया पहुंचे। डीआइजी ने कहा कि यह पुलिस की बड़ी उपलब्धि है। टीम में शामिल सभी पुलिस पदाधिकारियों और जवानों को प्रशस्ति पत्र के साथ नकद राशि देकर पुरस्कृत किया जाएगा। टीम में नवगछिया एसडीपीओ दिलीप कुमार समेत नवगछिया, झंडापुर, भवानीपुर और खरीक के थानाध्यक्ष और सर्किल इंस्पेक्टर शामिल थे।

श्वान दस्ता के साथ मिलकर वैज्ञानिक तरीके से कांड का अनुसंधान कर अपराधियों तक पहुंची पुलिस

डीआइजी ने बताया कि नवगछिया एसपी सुशांत सिंह सरोज के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने घटना का उद्भेदन किया। श्वान दस्ता के साथ मिलकर वैज्ञानिक तरीके से कांड का अनुसंधान कर पुलिस अपराधियों तक पहुंची। घटना में शामिल सुपर कुमार, नंदू कुमार, आदित्य कुमार, रङ्क्षवद्र कुमार और मिल्टन कुमार को गिरफ्तार किया गया। सभी अपराधियों ने अपना अपराध स्वीकार किया है। इनके पास से 15 लाख नकदी समेत सोने-चांदी के जेवरात और चांदी के 33 सिक्के, गणेश-लक्ष्मीजी की मूर्ति, मोती की माला और चार मोबाइल बरामद किए गए हैं। एक लोडेड कट्टा भी बरामद किया गया है।

अनिल की दुकान में काम करने वाला नंदू था डकैती कांड का लाइनर

डकैती कांड में लाइनर की भूमिका नंदू कुमार ने निभाई थी। वह कपड़ा व्यवसायी विनोद कुमार जैन के पड़ोसी अनिल साह की दुकान में काम करता था। विनोद की कमाई पर उसकी अक्सर नजर रहती थी। तीन दिन पूर्व उसे पता चला कि विनोद ने जमीन बिक्री की है। जिस दिन विनोद जमीन बिक्री के रुपये लेकर घर आया, उसी रात नंदू ने सुपर कुमार, आदित्य कुमार, रङ्क्षवद्र कुमार और मिल्टन कुमार के साथ मिलकर डकैती की घटना को अंजाम दिया। लूटपाट के दौरान व्यवसायी को धारदार हथियार से मारकर जख्मी कर दिया था। सभी नकाब पहनकर घर में घुसे थे। बीस लाख नकदी समेत सोने-चांदी के जेवरात लूटकर भाग निकले थे।

कैंसर पीडि़त पत्नी के इलाज के लिए व्यवसायी ने बेची थी जमीन

व्यवसायी विनोद कुमार जैन ने बताया कि उनकी पत्नी कैंसर पीडि़त हैं। दिल्ली में उनका इलाज चल रहा है। इलाज खर्च के लिए ही तीन लोगों के बीच चार कट्ठा जमीन बेची थी। इसकी जानकारी अनिल की दुकान पर काम करने वाले मजदूर नंदू को लग गई, जिसके बाद उसने घटना का अंजाम दिया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप