भागलपुर। नगर निगम सभागार में मंगलवार को भागलपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड के परामर्शदातृ समिति की बैठक हुई। बैठक में समिति के लोगों ने स्मार्ट सिटी के कार्यो पर ही सवाल खड़ा कर दिया।

सभी ने एक सुर से कहा कि शहर में 1309 करोड़ की लागत से स्मार्ट सिटी की योजना पर कार्य होना है। एडीबी क्षेत्र में 1106.70 करोड़ व पैन सिटी में 202.67 करोड़ खर्च करना है। इसके लिए सरकार ने 382 करोड़ तीन वर्ष पहले उपलब्ध कराया था। जून तक योजना मद में 18.38 करोड़ ही खर्च हुआ, जबकि बैंक में रखी योजना राशि का सूद 37.03 करोड़ हो गया। इससे कार्य की प्रगति का अंदाजा लगाया जा सकता है। इस पर सीईओ ने कहा कि निविदा की तकनीकी समस्या से विलंब हुआ था। लेकिन अब धरातल पर योजना उतरने लगी है।

इसके बाद सदस्यों ने कहा कि शहर में जब अच्छी सड़क है तो स्मार्ट सड़क की क्या आवश्यकता है? तिलकामांझी से मानिक सरकार चौक तक पथ निर्माण विभाग सड़क बना रही है। ऐसे में राशि का दुरूपयोग होगा। सीईओ ने बताया कि बोर्ड की बैठक में इस पर निर्णय लिया जाएगा। फिर बरारी पुल घाट से 10 किमी. की दूरी तक घाट किनारे 105 करोड़ की लागत से रिवर फ्रंट बनाने के मुद्दे पर बात हुई। इस पर सीईओ ने बताया कि योजना को स्मार्ट सिटी बोर्ड ने इस योजना को रद कर दिया है। इस पर पार्षद संजय सिन्हा ने छठ घाटों का मुद्दा उठाया। तब उन्होंने कहा कि बूढ़ानाथ से दिगंबर सरकार घाट का आठ करोड़ की लागत से पार्क, घाट व सौदर्यीकरण होगा। सैंडिस कंपाउंड स्टेडियम में क्रिकेट मैदान की योजना को लेकर उभरे विवाद के मुद्दे पर कहा कि फुटबॉल एंड एथलेटिक संघ से स्मार्ट सिटी के अधिकारी समन्वय बैठक कर समाधान निकालेंगे।

बाद में हवाई सेवा की बात हुई । सदस्यों ने कहा कि हवाई सेवा न होने से शहर की आर्थिक गति थम सी गई है। इस पर सीईओ ने बताया कि हवाई सेवा के लिए शहरी विकास मंत्रालय को पत्र लिखा गया है। अनुमति मिलने के बाद कार्ययोजना तैयार होगी। बाद में नगर विधायक अजीत शर्मा ने फोन से शहर में जाम की समस्या के निदान के लिए भागलपुर रेलवे स्टेशन से लालकोठी तक फ्लाई ओवर निर्माण का सुझाव दिया। व्यस्त मार्गो पर भूमिगत सड़क निर्माण का प्रस्ताव दिया।

बैठक से पूर्व पावर प्वाइंट के माध्यम से टाउन हॉल भवन का निर्माण, मायागंज अस्पताल में 100 बेड वाले अस्पताल, ई-टॉयलेट, स्लम क्षेत्र में हाईटेक सामुदायिक भवन, राष्ट्रीय स्तर के स्वीमिंग पुल, खेल संसाधन की जानकारी दी गई। हालांकि, इन मुद्दे पर बुधवार को प्रमंडलीय आयुक्त की अध्यक्षता में होने वाली स्मार्ट सिटी बोर्ड की बैठक में निर्णय लिया जाएगा। वैसे आज की बैठक में जियाउर रहमान, अशोक भिवानीवाला, सत्यनारायण प्रसाद, सुनील दरूका आदि मौजूद थे। मेयर व एमएलसी शामिल नहीं हुए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस