भागलपुर। मायागंज अस्पताल में अस्थमा की दवा नहीं है। मरीजों को पिछले एक माह से दवा नहीं दी जा रही है। चेस्ट एंड टीबी विभाग के अध्यक्ष कई बार इसकी सूचना अस्पताल अधीक्षक को दे चूके हैं, लेकिन फंड के अभाव में दवा की खरीदारी नहीं हो रही है।

टीबी एंड चेस्ट विभाग में मंगलवार और शुक्रवार को अस्थमा के मरीजों का इलाज किया जाता है। हर सप्ताह करीब 80 मरीजों का इलाज किया जाता है। इन्हें अस्थमा की दवा के अलावा इंनहेलर भी दिया जाता था। टीबी एंड चेस्ट विभाग के अध्यक्ष डॉ. शांतनु घोष ने कहा कि अस्पताल में दवा नहीं रहने के कारण बाहर की दवा लिखी जा रही है। इससे मरीजों की संख्या भी कम होती जा रही है। दवा के लिए कई बार अस्पताल अधीक्षक से आग्रह किया जा चुका है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस