बेगूसराय : बाबा हरिगिरिधाम में कोरोना गाइड लाइन के मुताबिक इस बार भी श्रावणी मेला के आयोजन एवं पूजा अर्चना पर रोक रहेगी। आगामी आठ अगस्त तक किसी भी तरह के धार्मिक कार्य और मेला का आयोजन बंद रहेगा। यह सरकार का निर्देश है। उक्त बातें धाम परिसर स्थित धर्मशाला में मंदिर कमेटी के साथ शनिवार को हुई प्रशासनिक बैठक में एसडीओ बखरी, अशोक कुमार गुप्ता ने कहीं। उन्होंने कहा कि कोरोना गाइडलाइन के अनुसार, पिछले साल की तरह इस बार भी किसी तरह का आयोजन नहीं होगा। देवघर सहित अन्य राज्यों में भी मंदिर पूजा अर्चना के लिए बंद है। एसडीओ ने मंदिर कमेटी को पूरे क्षेत्र में माइकिग कराने का निर्देश दिया, ताकि बाहर से कोई भी लोग पूजा-अर्चना के लिए नहीं आएं। मंदिर के पुजारी नियमित रूप से सुबह शाम पूजा पाठ अपने निर्धारित समय पर करते रहेंगे। मंदिर बंद रहने की जानकारी देने के लिए उन्होंने कमेटी के लोगों से अपना बैनर पोस्टर लगवाने को कहा, ताकि लोग जान सकें कि मंदिर बंद है।

एसडीपीओ बखरी, ओमप्रकाश ने कहा कि हरिगिरिधाम में मजिस्ट्रेट की ड्यूटी रहेगी। अनुमंडल क्षेत्र के सभी थाने की पुलिस एवं पदाधिकारी हरिगिरिधाम में तैनात रहेंगे। जिला से भी पुलिस बल बुलाया जाएगा, ताकि किसी तरह की भीड़ भाड़ नहीं हो। उन्होंने मंदिर परिसर जाने वाले दोनों मुख्य गेट के अलावा अन्य सभी रास्ते को बांस-बल्ला से घेराबंदी कर बंद करने का निर्देश थानाध्यक्ष एवं मंदिर कमेटी को दिया। धाम कमेटी के सचिव लक्ष्मी नारायण मिश्र ने पदाधिकारियों से आग्रह करते हुए कहा कि सोमवारी के दिन चार बजे सुबह के बाद श्रद्धालुओं के आने की संभावना रहती है। इस पर रोक लगाए जाने के लिए मंदिर परिसर में पुलिस फोर्स की जरूरत है। इस पर दोनों वरीय पदाधिकारियों ने आश्वासन दिया कि सुरक्षा व्यवस्था कड़ी रहेगी।

बैठक में सीओ स्मिता कुमारी, थानाध्यक्ष मनीष कुमार आनंद, सीआइ बिनोदानंद झा, धाम समिति के अध्यक्ष सुभाष यादव, अशर्फी शर्मा, दिलीप ठाकुर के अलावा पंडित सोनू झा, पंडित गोविद झा, पंडित रत्नेश्वर झा आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran