बेगूसराय। कृषि विज्ञान केंद्र, खोदावंदपुर के द्वारा जानवरों में होने वाले मौसमी बीमारी को लेकर किसानों का एकदिवसीय जागरूकता प्रशिक्षण बाड़ा पंचायत के मिर्जापुर गांव में बुधवार को किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन पूर्व मुखिया ¨टकू राय, केवीके के डॉ. एसएन ¨सह एवं प्रखंड रालोसपा अध्यक्ष तरुण कुमार रौशन ने संयुक्त रूप से किया। अपने उद्घाटन संबोधन में पूर्व मुखिया ¨टकू राय ने कहा, पशुधन पशुपालकों के जीवन का आधार है। खेती और पशुपालन किसानों के जीविका के आधार है। वर्तमान दौर में पशुधन के ऊपर पशुपालकों की एक बड़ी राशि खर्च होती है। ऐसे में पशुधन की बीमारियों की रक्षा एवं समुचित देखरेख का ज्ञान होना पशुपालकों के लिए आवश्यक है। केवीके ने यह प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित कर पशुधन की रक्षा एवं पशुपालकों के हित में एक सराहनीय पहल की है। केवीके के कार्यक्रम समन्वयक डॉ. एसएन ¨सह ने जानवरों में बरसात के मौसम में होने वाले थनैला, भंजहा एवं जीवाणुजनित विभिन्न मौसमी बीमारी के लक्षण एवं उसके उपचार की जानकारी दी। इस मौके पर कृषि विज्ञान केंद्र के डॉ. सीबी ¨सह ने पशुपालकों को जानवरों के समुचित पोषण संवर्धन एवं अत्यधिक दुग्ध उत्पादन के वैज्ञानिक तकनीक की जानकारी दी। उन्होंने पशुधन के बथानों को विशेष रूप से साफ रखने की जानकारी दी। कार्यक्रम को तरुण कुमार रौशन, सरपंच रानी वर्मा, गया महतो, अर¨वद कुमार, र¨वद्र कुमार आदि ने अपने विचार प्रकट किए। प्रशिक्षण में कृषि वैज्ञानिक द्वारा पशुपालकों से व्यक्तिगत संवाद भी किया। इस अवसर केवीके के द्वारा कृमि नाशक, पोटैशियम परमैग्नेट, मिनरल आदि दवाओं का निश्शुल्क वितरण किया गया।

Posted By: Jagran