बेगूसराय। मुफस्सिल थाना क्षेत्र की सूजा पंचायत के पूर्व मुखिया के विरुद्ध दर्ज कराए गए दुष्कर्म के एक मामले के विरोध में बुधवार को सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने एसपी कार्यालय पर पहुंचकर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने एसपी से मामले की निष्पक्ष जांच कर फर्जी मुकदमा दर्ज करने वाले के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करने की मांग की। सूजा पंचायत के सरपंच लक्ष्मी देवी, पूर्व पैक्स अध्यक्ष शंकर प्रसाद शर्मा, पंचायत समिति सदस्य रामाशीष साह, पूर्व मुखिया भजन कुमार आदि ने बताया कि पूर्व मुखिया चंद्रशेखर पासवान समाज के एक प्रतिष्ठित व्यक्ति हैं। उनके विरुद्ध कोई भी आपराधिक मुकदमा इससे पहले दर्ज नहीं हुआ था। दुष्कर्म की शिकायत दर्ज कराने वाली साहेबपुर कमाल थाना क्षेत्र के सादपुर पश्चिम निवासी महिला सूजा गांव की बेटी है। उसके पिता के साथ पूर्व मुखिया का पुराना जमीन का विवाद चला आ रहा है। इसी रंजिश के कारण उसके पिता ने ही उससे थाने में पूर्व मुखिया के विरुद्ध फर्जी मुकदमा कराया है। हालांकि कार्यालय में एसपी के मौजूद नहीं रहने के कारण प्रदर्शन करने आए लोगों ने मुख्यालय डीएसपी से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा। वहीं दूसरी ओर वीरपुर थाना क्षेत्र के मुबारकपुर फुलकारी निवासी सैकड़ों की संख्या में ग्रामीणों ने एसपी कार्यालय पर पहुंचकर गांव के कुछ असामाजिक तत्वों के विरुद्ध अविलंब कानूनी कार्रवाई करने की मांग की। ग्रामीण मो. शमीम, मो. इकबाल, मो. आफताब, मो. अताउल, मो. मुस्तफा, वार्ड सदस्य मो. अबूबकर, रुखसाना खातून, मदीना खातून, साहिदा, शबाना आदि ने बताया कि गांव के मो. अफजल उर्फ मुन्ना, मो. अबूबकर, मो. इसराफिल, मो. अमजद एवं नागदह निवासी मोतीउर रहमान, मो. जैनुल उर्फ जैला, मो. किस्मत आदि बीते कुछ दिनों से गांव में दहशत का माहौल बनाए हुए हैं। आए दिन ये लोग ग्रामीणों को बेवजह परेशान कर रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि मदरसा जामिया तस्लीमियां मुबारकपुर फुलकारी के सचिव के पद पर गांव की ही मरहूम सेखो मियां के पुत्र मो. इसराफिल काबिज थे। उन्होंने जालसाजी कर जब मदरसा को हड़पने का कुत्सित प्रयास किया तब उन्हें सचिव पद से हटा दिया गया। इसी रंजिश से वे ग्रामीणों के वाट्सएप पर अनर्गल एवं अनैतिक संदेश भेज कर परेशान करने लगे। इसकी शिकायत पुलिस से करने पर मो. इसराफिल के पुत्र मो. अफजल उर्फ मुन्ना को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। जेल से निकलने के बाद मुन्ना ने एक गिरोह बनाकर गांव वालों को परेशान करना शुरू कर दिया है। ग्रामीणों ने मुख्यालय डीएसपी कुंदन कुमार से मिलकर उन्हें ज्ञापन सौंपा तथा संयुक्त रूप से शिकायत दर्ज कराई। बाद में मुख्यालय डीएसपी के आश्वासन पर वे लोग वापस अपने घर लौट गए।

Posted By: Jagran