बेगूसराय। देश के युवाओं का ध्यान असल मुद्दे से भटकाने के लिए धर्म का नारा दिया जा रहा है। आज डीजल, पेट्रोल, रसोई गैस की कीमत उफान पर है। आमलोग परेशान हैं। ना नौकरी है, न रोजगार का अवसर। इस सवाल को उठाने वाले लेखकों, पत्रकारों को मौत के घाट उतारा जा रहा है। बुधवार को बखरी में ऑल इंडिया यूथ फेडरेशन के बैनर तले आयोजित छात्र-युवा कन्वेंशन को संबोधित करते हुए एआइएसएफ के राज्य उपाध्यक्ष अमीन हमजा ने उक्त बातें कहीं। बखरी के सलौना गांव स्थित बड़ी ठाकुरबाड़ी में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, हम छात्र-युवाओं को बेहतर शिक्षा एवं रोजगार के लिए आवाज बुलंद करते हैं। एआइएसएफ के जिलाध्यक्ष सजग ¨सह ने कहा, दो करोड़ युवाओं को प्रति वर्ष रोजगार देने का मोदी जी ने वादा किया था। रोजगार तो नहीं मिल रहा लेकिन रोजगार में लगे मजदूरों की छंटनी जरूर हो रही है। कन्वेंशन को छात्रसंघ के जिला उपाध्यक्ष शंभू देवा, पूर्व छात्र नेता अकील अजहर के साथ-साथ नौजवान संघ के प्रखंड अध्यक्ष संजय राय, सचिव जितेंद्र जीतू, सलौना के राजकिशोर गुप्ता, अनिल चौधरी आदि ने संबोधित किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता बलराम स्वर्णकार ने की। कन्वेंशन के अंत में 21 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया। इसमें राजकुमार पासवान को अध्यक्ष, मुन्ना कुमार को उपाध्यक्ष एवं सोनू कुमार को कोषाध्यक्ष बनाया गया। मालूम हो कि 19 सितंबर को जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार का बखरी प्रखंड के सलौना सहित चार स्थानों पर छात्र संवाद यात्रा कार्यक्रम पूर्व निर्धारित है।

Posted By: Jagran