बेगूसराय, जागरण संवाददाता। खोदावंदपुर प्रखंड की बाड़ा पंचायत वार्ड पांच निवासी शंकर महतो के 20 वर्षीय पुत्र दीपक कुमार की प्रेम प्रसंग में पीटकर हत्या कर दी गई। घटना गुरुवार की देर रात की बताई जाती है। शुक्रवार को मृतक का शव उसके घर पहुंचते ही स्वजनों में कोहराम मच गया।

स्वजनों ने बताया कि दीपक अपने पिता के साथ सपरिवार करनाल शहर के श्याम नगर गली संख्या 21 में रहते थे और मेहनत मजदूरी कर जीवन यापन करते थे। उसी जगह समस्तीपुर जिला के रहीमाबाद निवासी लखी महतो भी अपने परिवार के साथ रहते थे।

प्रेमिका के हैं तीन बच्चे

दीपक और प्रियंका एक ही जगह साथ-साथ मजदूरी करते थे। इसी दौरान दोनों के बीच प्यार हो गया। इस बात की जानकारी प्रियंका के पति लखी महतो को हो गई। कुछ दिन पूर्व लखी पत्नी को करनाल में छोड़कर तीनों बच्चे सहित अपने घर रहीमाबाद आ गया। दुर्गा पूजा के बहाने लखी अपनी पत्नी को दीपक के साथ समस्तीपुर आने को कहा। पति के कहने पर प्रियंका अपने प्रेमी दीपक के साथ गुरुवार की शाम करनाल से समस्तीपुर पहुंचा।

पहले से ही बनाया था हत्या का प्लान

यहां पहले से मौजूद लखी महतो, भाई पंकज महतो, पिता विश्वनाथ महतो एवं माता बबीता देवी वहां मौजूद थे। सभी लोग दीपक और प्रियंका को अपने घर रहीमाबाद लेकर गए। यहां षड्यंत्र कर पीट-पीटकर उसे मरणासन्न कर दिया। दीपक को मरणासन्न स्थिति देख लखी के भाई पंकज महतो ने फोनकर दीपक की मां को अपने यहां बुलाया। 

फोन पर दी गई मृतक परिजनों को जानकारी

पंकज ने कहा कि दीपक और प्रियंका एक दूसरे को चाहते हैं जो रहीमाबाद आए हुए हैं। अनिता ने इस बात की जानकारी शंकर महतो और परिवार के दूसरे सदस्यों को दी। तब शंकर अपने स्वजनों के साथ रहीमाबाद गए, जहां अपने पुत्र को जख्मी हालत में देखकर सन्न रह गए। उन्होंने घटना की सूचना बंगरा थाना की पुलिस को दी।

पुलिस रहीमाबाद पहुंचकर दीपक को इलाज के लिए ताजपुर लेकर गई, जहां चिकित्सकों ने दीपक को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर समस्तीपुर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया, जहां पोस्टमार्टम बाद दीपक का शव स्वजनों को सौंप दिया गया।

अविवाहित था पंकज

इधर शुक्रवार की सुबह दीपक का शव उसके घर बाड़ा पहुंचते ही स्वजनों में कोहराम मच गया। मृतक दीपक के परिवार में माता-पिता के अलावा तीन बहन 18 वर्षीय कविता कुमारी, 16 वर्षीय संगीता कुमारी तथा 14 वर्षीय सरिता कुमारी के अलावा दो भाई छोटा नीतीश कुमार और बड़ा भाई दीपक था। दीपक अविवाहित था।

परिजनों ने दर्ज कराई हत्या की रिपोर्ट

स्वजन इस बार उसकी शादी विवाह के बारे में सोच रहे थे। घटना से पिता शंकर महतो, मां अनिता देवी एवं उनके भाई बहन का रो-रोकर हाल बेहाल है। मृतक के पिता शंकर महतो ने बबीता देवी, लखी महतो, विश्वनाथ महतो, पंकज महतो एवं स्वजनों पर अपने पुत्र पर षड्यंत्र कर हत्या करने का आरोप लगाया है।

Edited By: Umesh Kumar