बेगूसराय। छौड़ाही प्रखंड की एकंबा पंचायत के 306 लाभुकों का नाम प्रधानमंत्री आवास योजना, ग्रामीण की सूची से एक झटके में हटा देने से बवाल हो गया। गुहार, अनुनय-विनय के बाद भी अधिकारियों ने जब इस पर ध्यान नहीं दिया तो शुक्रवार को आवास योजना से वंचित एकंबा पंचायत के लोगों ने छौड़ाही बीडीओ रवि कुमारी के वाहन का घेराव करते हुए उन्हें बंधक बना लिया। बीडीओ द्वारा लिखित आश्वासन देने के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने उन्हें मुक्त किया।

बीडीओ को बना लिया बंधक :

दरअसल, पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री आवास योजना, ग्रामीण के लाभुकों की सूची सत्यापन के लिए प्रखंड क्षेत्र की सभी पंचायतों में आमसभा का आयोजन हुआ था। इसमें तमाम पंचायतों के लगभग 25 सौ लोगों का नाम एक झटके से आवास योजना की सूची से हटा दिया गया। आमसभा में नाम हटाने की सूचना ग्रामीणों को नहीं दी गई थी। अब चयनित लाभार्थियों का डाटा वेबसाइट पर अपलोड किया जा रहा है, जिसकी सूची प्रकाशित नहीं की गई। इसमें एकंबा पंचायत के 769 लाभुकों में से 306 लाभुकों का नाम सूची से गायब था। वंचित लोगों ने नाम सूची में जोड़ने का आग्रह करते रहे, परंतु अधिकारियों ने कोई ध्यान नहीं दिया।

शुक्रवार को तमाम लाभुक एवं उनके स्वजन एकंबा पंचायत की मुखिया राखी रानी के आवास पर पहुंचे और हंगामा करने लगे। मुखिया ने इसकी सूचना बीडीओ को दी। बीडीओ रवि कुमारी एकंबा मुखिया के आवास पर पहुंचीं, जहां मौजूद सैकड़ों लोगों ने पंचायत के आवास सहायक एवं जनप्रतिनिधि पर गंभीर आरोप लगाते हुए बीडीओ की गाड़ी को घेर लिया।

लिखित आश्वासन पर मुक्त हुए बीडीओ : बीडीओ को बंधक बनाने की सूचना मिलते ही सरपंच प्रतिनिधि तेतर सहनी, पंसस दिनेश पासवान, पैक्स अध्यक्ष दिलीप पासवान समेत तमाम प्रबुद्धजन पहुंचकर ग्रामीणों को शांत कराया। जांच पड़ताल में आवास सहायक द्वारा ही सारी गड़बड़ी किए जाने की बात सामने आई। बीडीओ एवं मुखिया ने संयुक्त रूप से सूची से हटाए गए 306 नामों का भौतिक सत्यापन कर पात्र लोगों का नाम तुरंत आवास सूची में जोड़ने एवं आवास सहायक प्रीति कुमारी का स्थानांतरण करने का लिखित आश्वासन दिया। इसके बाद ग्रामीण अपने अपने घर लौट गए।

कहती हैं मुखिया : एकंबा मुखिया राखी रानी का कहना है कि ग्राम सभा में आवास योजना से नाम हटाने से संबंधित कोई प्रस्ताव नहीं दिया गया था। लोगों की मांग सही है।

कहती हैं बीडीओ : बीडीओ छौड़ाही, रवि कुमारी का कहना है कि हंगामा की सूचना मुखिया द्वारा दी गई थी। ग्रामीणों से बातचीत की गई है। उन्हें न्याय देने का आश्वासन दिया गया है। पात्र व्यक्तियों का नाम अवश्य आवास सूची में जोड़ा जाएगा।

Edited By: Jagran