बांका। जिले के पंजवारा थाना क्षेत्र के चीर नदी तट पर स्थित पौराणिक सती काली मंदिर में आस्था के साथ स्वच्छता का प्रसाद बंट रहा है। बाजार के युवाओं ने इस स्वच्छता अभियान की शुरुआत वर्षों पूर्व की थी। देखते ही देखते युवाओं की बड़ी फौज स्वच्छता दूत बन कर तैयार हो गई है। मंदिर परिसर की साफ सफाई के लिए ही वहां उनका जुटान होता है। युवाओं की यह टोली अब गांव समाज के लोगों में स्वच्छता का संदेश बांट रही है। यह परंपरा यहां लंबे समय से चली आ रही है। स्वयंसेवक भक्तों का चेहरा बदलता गया, लेकिन साफ सफाई का सिलसिला बदस्तूर जारी है। मंदिर के गर्भगृह से लेकर बाहर के परिसर तक की साफ सफाई की जाती है। सुबह मंदिर में दर्शन पूजन को आने वाले भक्तों को लगता है कि मानों माता की कृपा से ही साफ सफाई का काम भी हो रहा हो।

स्थानीय युवा मनीष मिश्र, मुकेश मिश्र, राजेश ¨सह, मनीष झा, अजीत ठाकुर, मदन ¨सह आदि अन्य बताते हैं कि यहां झाड़ू लगाकर संतोष की अनुभूति होती है। चार बजे सुबह तक हमलोग इस काम में जुट जाते हैं। पहले तो एक दो लोग इस काम में सहयोग करते थे, लेकिन धीरे धीरे समाज को स्वच्छता का आइना दिखा रहे इस अभियान में औरों का जुड़ाव बढ़ता गया। बुजुर्ग दिनेश झा ने बताया कि सफाई अभियान में शामिल कई युवाओं की नौकरी लगने के बाद दूसरे युवा इसमें जुटते गए। अनंत मिश्रा की नौकरी स्काउट गाईड में है। इसके अलावा अन्य युवाओं की भी नौकरी लगने के बाद दूसरे युवा इस अभियान का हिस्सा बनते गए। अभी एक दर्जन से अधिक युवा इसमें जुटे हैं। लोग यहां आकर स्वच्छता का संदेश प्रसाद के रुप में लेकर घर लौटते हैं। इससे अपने घरों व मुहल्लों में भी स्वच्छता अपनाने की प्रेरणा मिलती है।

Posted By: Jagran